अगले मैच में भी बलिदान वाला ग्लव्स पहनेंगे धोनी

Asiaville

Asiaville

Author 2019-09-17 15:47:40

img

महेंद्र सिंह धोनी के विकेट कीपिंग ग्लव्स का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. दरअसल विश्व कप में दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ भारत के पहले मैच में धोनी के कीपिंग ग्लव्स पर भारतीय सेना के स्पेशल फ़ोर्सेज़ का रेजिमेंटल डैगर का चिन्ह बना हुआ था. इसके बाद धोनी के ग्लव्स की चर्चा भारत से लेकर इंग्लैंड और पाकिस्तान तक में हो रही है.

लेकिन आईसीसी ने धोनी के ग्लव्स पर आपत्ति जताई है. उसने बीसीसीआई से धोनी के गलव्स से रेजिमेंटल डैगर का चिन्ह हटाने को कहा है.

हालांकि बीसीसीआई धोनी के समर्थन में आ गई है. बीसीसीआई प्रशासकों की समिति के प्रमुख (सीओए) विनोद राय ने कहा कि महेंद्र सिंह धोनी अपने विकेट कीपिंग ग्लव्स पर रेजिमेंटल डैगर प्रतीक चिन्ह को पहनना जारी रखेंगे. क्योंकि यह सैन्य प्रतीक नहीं है. बीसीसीआई ने इसके लिए आईसीसी से अनुमति मांगी है.

विनोद राय ने कहा, “बीसीसीआई ने पहले ही मंजूरी के लिए आईसीसी को औपचारिक अनुरोध भेज दिया था. आईसीसी के नियमों के अनुसार कोई खिलाड़ी किसी कॉमर्शियल, धार्मिक या सैन्य के प्रतीक चिन्ह का समर्थन नहीं कर सकते. लेकिन धोनी के ग्लव्स पर ऐसा कुछ नहीं था जिस पर आपत्ति हो.”

विनोद राय ने कहा, “धोनी के ग्लव्स पर जो चिन्ह है वो अर्धसैनिक रेजिमेंटल का प्रतीक नहीं है इसलिए धोनी आईसीसी के नियमों का उल्लंघन नहीं कर रहे हैं.”

विनोद राय का ये बयान उस समय आया जब आईसीसी ने धोनी के ग्लव्स पर बने चिन्ह से आपत्ति जताई और बीसीसीआई से धोनी के ग्लव्स से चिन्ह को हटाने को कहा है.

आईसीसी के नियमों के मुताबिक कपड़ों या अन्य चीजों पर अंतरराष्ट्रीय मैच के दौरान राजनीति, धर्म या नस्लभेद जैसी चीजों का संदेश नहीं होना चाहिए.
महेंद्र सिंह धोनी पैराशूट रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट कर्नल हैं और ये प्रतीक चिन्ह उसका हिस्सा है.

सीओए प्रमुख ने धोनी का बचाव इस तथ्य पर किया है कि पैरा रेजिमेंटल डैगर लोगो में ‘बलिदान’ शब्द अंकित होता है जो कि धोनी के ग्लव्स पर बने लोगो के साथ ये शब्द नहीं है.

सीओए ने कहा, “9 जून, रविवार को ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ खेले जाने वाले मैच से पहले बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी वहां पहुंचेंगे और आईसीसी के वरिष्ठ अधिकारियों से बात करेंगे.”

वहीं आईसीसी की स्ट्रैटजिक कम्युनिकेशन जनरल मैनेजर क्लेयर फर्लांग से जब इसे लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अब तक बीसीसीआई की तरफ से कोई अनुमति पत्र नहीं मिला है. आईसीसी अगली बैठक में इस पर विचार करेगा.

(हमें फ़ेसबुक, ट्वीटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो करें)

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN