अध्यक्ष बनने के बाद गांगुली की पहली अहमियत होगी यह

Hindustanvarta

Hindustanvarta

Author 2019-10-14 12:44:51

img

पूर्व कैप्टन सौरव गांगुली भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के नए अध्यक्ष बन सकते हैं. वे अगर अध्यक्ष बनते हैं, तो उनका कार्यकाल अगले वर्ष 2020 तक होगा. गांगुली ने अध्यक्ष पद के लिए अपना नाम आगे होने पर कहा, ‘ये मेरे लिए कुछ अच्छा करने का शानदार मौका है. मैं ऐसे समय में इस कुर्सी पर बैठ रहा हूं, जब बोर्ड की छवि लगातार बेकार हो रही है.’ बोर्ड अध्यक्ष पद के लिए गांगुली का नाम रविवार रात मुंबई में बीसीसीसीआई की मीटिंग में सामने आया. उन्होंने इस रेस में बृजेश पटेल को पीछे छोड़ दिया.

गांगुली ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को दिए साक्षात्कार में कहा, ‘आपको आखिरी फैसला के लिए आज दोपहर 3 बजे तक इंतजार करना होगा.’ अध्यक्ष पद के लिए नाम आगे होेने पर कैसा लगा रहा है? इस सवाल पर पूर्व कैप्टन ने कहा, ‘बिल्कुल मुझे अच्छा लग रहा है, क्योंकि मैंने देश के लिए खेला व कप्तानी की है. इस कुर्सी पर बैठ रहा हूं, जब बोर्ड की छवि पिछले 3 वर्ष से लगातार बेकार हो रही है़. मेरे लिए यह बहुत ज्यादा अच्छा मौका है.’

गांगुली का कार्यकाल 10 महीने का ही होगा
गांगुली अगर अध्यक्ष बनते हैं, तो उनका कार्यकाल अगले वर्ष 2020 तक होगा. वे 5 वर्ष से बंगाल क्रिकेट के अध्यक्ष हैं. बोर्ड में 6 वर्ष तक किसी पद पर रहने के बाद उन्हें कूलिंग ऑफ (आराम) दिया जाएगा. बोर्ड में कोई भी मेम्बर 9 वर्ष तक किसी पद पर रह सकता है. अपने प्रशासनिक गुरु जगमोहन डालमिया की तरह ही गांगुली इस पद की रेस में तब आए हैं, जब ऐसा लग रहा था कि अध्यक्ष कोई व पहुंचेगा.

‘मेरी पहली अहमियत प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की देखभाल करना होगा’

गांगुली ने आगे कहा, ‘छोटे कार्यकाल में मेरी पहली अहमियत प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों की देखभाल करना होगा. भारतीय क्रिकेट में सभी हितधारकों से मिलने की योजना है. मैं कुछ ऐसा करना चाहता हूं जो सीओए ने 33 महीनों तक नहीं किया.’ गांगुली ने 113 टेस्ट में 7212 व 311 वनडे में 11363 रन बनाए. वे वर्ष 2000 से 2005 तक टीम इंडिया के कैप्टन थे. इसके बाद पिछले 5 वर्ष से गांगुली बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं.

गांगुली गृह मंत्री अमित शाह से मिले थे
गांगुली ने शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी. उनसे पूछा गया कि क्या वे बंगाल में बीजेपी के लिए प्रचार करेंगे, तो गांगुली ने इससे मना कर दिया. उन्होंने कहा, ‘नहीं, नहीं ऐसा नहीं है. मुझसे किसी ने भी इस पर बात नहीं की.’

डालमिया मेरे लिए पिता समान थे: गांगुली
गांगुली जब टीम इंडिया के कैप्टन थे, तब जगमोहन डालमिया बोर्ड के अध्यक्ष थे. डालमिया ने बोर्ड में कई अहम परिवर्तन किए थे. उनके बारे में पूछे जाने पर गांगुली भावुक हो गए. उन्होंने कहा, मैंने कभी नहीं सोचा था कि उनकी कुर्सी पर बैठूंगा. वे मेरे लिए पिता समान थे. बोर्ड में श्रीनिवासन, अनुराग ठाकुर जैसे कई बेहतरीन अध्यक्ष हुए हैं, जिन्होंने अच्छा कार्य किया.’

अनुराग गुट ने गांगुली का नाम आगे किया
गांगुली अध्यक्ष पद के लिए निर्विरोध चुने जा सकते हैं. उनके नाम पर सहमति से पहले कई सदस्यों ने असहमति जताई. इस निर्णय को लेकर बोर्ड के मेम्बर दो गुट बंटे थे. इनमें एक अनुराग ठाकुर व दूसरा एन श्रीनिवासन का गुट था. श्रीनिवासन गुट बृजेश को अध्यक्ष बनाना चाह रहा था, लेकिन अंत में अनुराग गुट के उम्मीदवार के नाम पर ही सहमति बनी. गांगुली ने कहा, ‘निर्विरोध चुना जाना बड़ी जिम्मेदारी होती है. आप निर्विरोध चुने जाए या नहीं, जिम्मेदारी हमेश बड़ी होती है. आर्थिक रूप से हिंदुस्तान क्रिकेट में पावरहाउस है. इसलिए हमारे सामने कई चुनौतियां होंगी.’

जय शाह सचिव व अरुण धूमल कोषाध्यक्ष बन सकते हैं
अमित शाह के बेटे जय शाह को सचिव पद के लिए चुना जा सकता है. बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष व वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर के छोटे भाई अरुण धूमल कोषाध्यक्ष बन सकते हैं. सोमवार बीसीसीआई के विभिन्न पदों के लिए नामांकन भरने का आखिरी दिन है, लेकिन चुनाव होने के संभावना नहीं हैं. कई दिनों से जारी लॉबिंग के बाद सभी उम्मीदवार निर्विराेध चुने जा सकते हैं.

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN