कोहली सबसे ‘विराट’

Divya Himachal

Divya Himachal

Author 2019-10-12 02:52:05

imgपुणे – कप्तान कोहली (नाबाद 254) के रिकार्ड तोड़ दोहरे शतक और उनके करियर की सर्वश्रेष्ठ पारी की बदौलत भारत दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन शुक्रवार को अपने पहली पारी पांच विकेट पर 601 रन का विशाल स्कोर बना कर घोषित कर दी। दक्षिण अफ्रीका ने इसके जवाब में दिन का खेल समाप्त होने तक अपने तीन विकेट मात्र 36 रन पर खो दिए और वह गहरे संकट में फंस गया है। भारत ने विशाखापत्तनम में अपनी पहली पारी सात विकेट पर 502 रन पर घोषित की थी और यहां उसने अपनी पहली पारी पांच विकेट पर 601 रन पर घोषित की। भारतीय कप्तान ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाते हुए 336 गेंदों पर 33 चौकों और दो छक्कों की मदद से नाबाद 254 रन की पारी खेली। यह विराट के करियर का सातवां दोहरा शतक था और इसके साथ ही उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 7000 रन भी पूरे कर लिए। भारत ने शुक्रवार सुबह पिछले स्कोर तीन विकेट पर 273 रन से आगे खेलना शुरू किया। भारत ने अपनी पारी घोषित करने तक अपने स्कोर में 328 रन का इजाफा किया। विराट ने 63 और अजिंक्या रहाणे ने 18 रन से आगे खेलना शुरू किया। विराट और रहाणे ने तीसरे विकेट के लिए 178 रन की साझेदारी की। रहाणे ने 168 गेंदों पर 59 रन में आठ चौके लगाए। विराट ने फिर रवींद्र जडेजा के साथ पांचवें विकेट की साझेदारी में 225 रन जोड़े। जडेजा मात्र नौ रन से अपना दूसरा टेस्ट शतक बनाने से चूक गए। जडेजा ने 104 गेंदों पर आठ चौकों और दो छक्कों की मदद से 91 रन की शानदार पारी खेली। विराट ने जडेजा के आउट होते ही भारतीय पारी घोषित कर दी। भारतीय कप्तान ने इस बात का इंतजार नहीं किया कि उनके पास तिहरा शतक पूरा करने का शानदार मौका हैं। उन्होंने टीम हित को देखते हुए भारतीय पारी घोषित कर दी और दिन के खेल की समाप्ति से पहले तक दक्षिण अफ्रीका के तीन विकेट झटक लिए। भारत के विशाल स्कोर के जवाब में दक्षिण अफ्रीका ने खराब शुरुआत की। हनुमा विहारी की जगह टीम में शामिल किए गए तेज गेंदबाज ने उमेश यादव ने अपने चयन को सही साबित करते हुए दूसरे ही ओवर में एडन मारक्रम को पगबाधा कर दिया। मारक्रम का खाता भी नहीं खुला। यादव ने फिर अपने दूसरे ओवर में पहले टेस्ट के शतकधारी डीन एल्गर को बोल्ड कर दिया। पहले टेस्ट की दूसरी पारी में पांच विकेट लेने मोहम्मद शमी ने तेंबा बावुमा को विकेटकीपर रिद्धिमान सहा के हाथों कैच करा दिया। एल्गर ने छह और बावुमा ने आठ रन बनाए। स्टंप्स के समय थ्यूनिस डी ब्रून 20 और एनरिक नोर्त्जे दो रन बना कर क्रीज पर थे। दक्षिण अफ्रीका अभी भारत के स्कोर से 565 रन पीछे है।

600 के स्कोर वाली पिच नहीं

पुणे। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन मैचों की टेस्ट सीरीज खेली जा रही है। सीरीज का दूसरा टेस्ट मैच पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेला जा रहा है। दूसरे दिन के बाद दक्षिण अफ्रीका पूरी तरह से बैकफुट पर है। दूसरे दिन 59 रन बनाकर आउट होने वाले अजिंक्य रहाणे ने कहा कि ये पिच 600 के स्कोर वाली नहीं, बल्कि 450-500 स्कोर वाली पिच है। रहाणे ने मैच के बाद कहा कि पिच बल्लेबाजी के लिए ज्यादा आसान नहीं है। उन्होंने भारत के 601 रन के स्कोर का श्रेय कप्तान विराट कोहली और रविंद्र जडेजा को दिया। रहाणे ने कहा, मैं समझता हूं कि जिस तरह की हमने बल्लेबाजी की उसकी तारीफ होनी चाहिए। शुरुआत में पिच में तेज गेंदबाजों के लिए मदद थी। मयंक ने बेहतरीन बल्लेबाजी की। हम 600 की नहीं, बल्कि 500 रन बनाने की सोच रहे थे, लेकिन जिस तरह की विराट और जडेजा ने बल्लेबाजी की, इस बड़े स्कोर को भी आसान कर दिया।

7000 रन भी पूरे

कोहली ने इसके साथ ही टेस्ट क्रिकेट में अपने 7000 रन भी पूरे कर लिए। उन्होंने 138 पारियों में यह मुकाम हासिल किया। वह सबसे कम मैचों में यहां पहुंचने वाले तीसरे भारतीय बल्लेबाज हैं। भारत की ओर से वीरेंदर सहवाग ने 134 और सचिन तेंदुलकर ने 136 पारियों में यह उपलब्धि हासिल की थी।

सचिन-सहवाग से निकले आगे

कोहली ने अपने 81वें टेस्ट मैच की 138वीं पारी में यह मुकाम हासिल किया। इससे पहले सचिन तेंदुलकर 200 टेस्ट मैचों की 329 पारियों और वीरेंद्र सहवाग ने 104 टेस्ट मैचों की 180 पारियों में 6.6 दोहरे शतक लगाए हैं।

सबसे तेजी से 1000 टेस्ट रन

कोहली सबसे कम पारियों में साउथ अफ्रीका के खिलाफ 1000 टेस्ट रन पूरे करने वाले भारतीय बल्लेबाज बन गए। कोहली ने अपनी 19वीं पारी में यह मुकाम हासिल किया। उन्होंने वीरेंद्र सहवाग के रिकार्ड को तोड़ा, जिन्होंने 20 पारियों में साउथ अफ्रीका के खिलाफ 1000 रन पूरे किए थे।

पुणे में एक-दो नहीं, अनेकों वर्ल्ड रिकार्ड

ब्रैडमैन को पीछे छोड़ा

विराट कोहली ने बतौर कप्तान टेस्ट क्रिकेट में 9वीं बार 150 का आंकड़ा पार किया। ब्रैडमैन ने आठ बार कप्तान के रूप में 150 का आंकड़ा पार किया था। इसके साथ ही उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में कुल रन (6996) को पीछे छोड़ा। ब्रायन लारा, महिला जयवर्धने, ग्रीम स्मिथ और माइकल क्लार्क ने सात बार ऐसा किया है।

READ SOURCE

Experience triple speed

Never miss the exciting moment of the game

DOWNLOAD