क्यों ये टीम है इस बार वर्ल्ड कप की सबसे प्रबल दावेदार

Asiaville

Asiaville

Author 2019-09-17 15:49:34

img

विश्वकप शुरू होने में अब चंद घंटे बचे हैं, और सब अपनी-अपनी पसंदीदा टीमों की जीत की ख़्वाहिश बांधे इंतज़ार कर रहे हैं. लेकिन, बड़ा सवाल यही है कि कौन सी टीम में इस बार विश्वकप ट्रॉफी उठाने का दम है. नाम गिनाने लगेंगे तो तीन-चार दावेदार तो निकल ही आएंगे. कुछ टीमें विश्वकप में हमेशा उलटफेर करती रही हैं, पासा पलटने वाली उन टीमों को भी लोग गिन लेते हैं.

इसके बावजूद, जीतेगी तो कोई एक ही. अगर रिकॉर्ड्स की बात करें तो साफ़ लगता है कि इस बार की सबसे बड़ी दावेदारी टीम है इंग्लैंड. हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व घातक तेज़ गेंदबाज़ ग्लेन मैकग्रा ने भी तीन टीमों की अपनी पसंद ज़ाहिर की थी, जिसमें पहले नंबर पर इंग्लैंड, दूसरे पर भारत और तीसरे पर ऑस्ट्रेलिया थी.

नंबर वन टीम है इंग्लैंड

इंग्लैंड इस वक़्त एकदिवसीय रैंकिंग में पहले नंबर की टीम है. इंग्लैंड के आस-पास सिर्फ़ भारत है जो उससे 4 अंक पीछे है, लेकिन इन दोनों टीमों को छोड़ दिया जाए तो बाक़ी टीमें कहीं आस-पास भी फटकती नहीं दिखती.

पिछले विश्वकप से अब तक सबसे शानदार फॉर्म

2015 में ख़त्म हुए विश्वकप के बाद से जिस टीम ने एकदिवसीय क्रिकेट पर अपना दबदबा क़ायम किया है वो है इंग्लैंड. इंग्लैंड ने 2015 के बाद से 70.7 फ़ीसदी मैच जीते हैं. इंग्लैंड के बाद दूसरे नंबर पर एक बार फिर भारत है जिसने 65.9 फ़ीसदी मैच जीतने में क़ामयाबी हासिल की है. इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों ने 2015 से अब तक 46 शतक जड़े हैं जो उससे चार साल पहले की तुलना में दोगुने से भी ज़्यादा हैं.


इंग्लैंड सबसे विस्फोटक टीम है

2015 से अब तक दुनिया में सिर्फ़ 5 बार 400+ स्कोर बने और 4 बार ये कारनामा इंग्लैंड ने दोहराया है. इंग्लैंड ने 2015 के बाद से प्रति ओवर 6.07 रन बनाए हैं. इस दौरान दुनिया की किसी भी टीम ने 6 के आंकड़े को नहीं छुआ. दूसरे नंबर पर मौजूद ऑस्ट्रेलिया ने प्रति ओवर 5.72 रन बनाने में क़ामयाबी हासिल की. 5.70 रन प्रति ओवर के साथ भारत इस सूची में चौथे नंबर पर मौजूद है.



टीम में इयॉन मॉर्गन, जॉनी बेयरस्टो, जोस बटलर जैसे धाकड़ बल्लेबाज़ हैं. टॉप-10 एकदिवसीय मैच में इस वक़्त इंग्लैंड के 3 बल्लेबाज़ हैं. जोस बटलर, जॉनी बेयरस्टो और जेशन रॉय. 2015 से अब तक कम से कम 1000 रन बनाने वालों में जोस बटलर से आगे दुनिया में सिर्फ़ एक खिलाड़ी हैं- ग्लेन मैक्सवेल. लेकिन, मैक्सवेल की तुलना में बटलर ने कहीं ज़्यादा रन बनाए हैं.

वहीं बेन स्टोक्स और मोईन अली जैसे ऑल राउंडर भी मैच पलटने का माद्दा रखते हैं. टीम की गेंदबाज़ी भी बहुत मज़बूत है. अभी-अभी ख़त्म हुए आईपीएल में शानदार प्रदर्शन करने वाले जोफ्रा आर्चर, लियाम प्लंकेट और आदिल राशिद भी टीम में मौजूद हैं. 2015 से अब तक सबसे ज़्यादा विकेट लेने वालों सूची में आदिल राशिद नंबर वन हैं. उन्होंने इस दौरान 129 शिकार किए. भारत के कुलदीप यादव 87 विकेट के साथ इस सूची में 6ठे नंबर पर मौजूद हैं.

इंग्लैंड में इंग्लैंड और भी मज़बूत

घरेलू मैदान पर इंग्लैंड के रिकॉर्ड का कोई सानी नहीं है. बीते चार साल में इंग्लैंड ने जब भी मेज़बानी की, दूसरे टीमों को हत्थे से उखाड़ दिया. 2015 से अब तक इंग्लैंड में खेले गए मैचों मे प्रति मैच स्कोर 494.98 का रहा. इस दौरान कुल 28,706 रन बने. इस सूची में सिर्फ़ ऑस्ट्रेलिया इंग्लैंड से आगे है. इसी दौरान वहां प्रति मैच 522.92 रन बने. लेकिन दिलचस्प ये है कि अगर एक मेज़बान टीम का औसत स्कोर देखा जाए तो इंग्लैंड उसमें नंबर वन है.

अभी हाल ही में पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय सीरीज़ में इंग्लैंड ने जो कारनामा किया, वो अद्भुत है. दुनिया के इतिहास में पहली बार किसी टीम ने लगातार चार मैचों में 340+ का स्कोर बनाया. इंग्लैंड का स्कोर था: 373/3, 359/4, 341/7 और 351/9.

अब तक विश्वकप नहीं जीतने का मलाल

इंग्लैंड अब तक तीन बार विश्वकप फाइनल में पहुंच चुकी है, लेकिन ट्रॉफी पर कब्ज़ा करने में अब तक नाकाम साबित रही. 1992 के बाद इंग्लैंड आज तक विश्वकप के फ़ाइनल में नहीं पहुंच पाई. इस बार जज़्बा है, घरेलू माहौल है, प्रचंड फॉर्म है, दुनिया की नंबर वन टीम है, लिहाज़ा इंग्लैंड ये मौक़ा हाथ से जाने नहीं देना चाहेगी.

img

कौन रोक सकता है इंग्लैंड को?

इंग्लैंड को पटखनी देने का माद्दा जिस टीम में सबसे ज़्यादा है वो है भारत. भारत की टीम इस वक़्त बेहतरीन बल्लेबाज़ों से सजी है. 2015 से अब तक सबसे ज़्यादा रन बनाने वालों की सूची में विराट कोहली पहले नंबर पर हैं. रोहित शर्मा और शिखर धवन भले ही बीते कुछ दिनों से अपने सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में ना दिखें हो, लेकिन अगर ये दोनों चल जाएं तो किसी भी टीम को तहस-नहस करने की कूवत रखते हैं. प्रैक्टिस मैच में महेन्द्र सिंह धोनी और केएल राहुल ने शतक जड़कर ये बता दिया कि अब तक कमज़ोर दिख रहा भारत का मध्य क्रम अब मज़बूती से उभरा है.

भारत के पास जसप्रीत बुमराह, कुलदीप यादव, युज़वेन्द्र चहल जैसे गेंदबाज़ और हार्दिक पंड्या, रवीन्द्र जडेजा और केदार जाधव जैसे ऑल राउंडर शामिल हैं. आईसीसी रैंकिंग में भारत अभी दूसरे नंबर की टीम है और तज़ुर्बेदार के साथ-साथ युवा खिलाड़ियों का मिश्रण भारत को ये क्षमता देता है कि वो किसी भी टीम को ध्वस्त कर सके.

(हमें फ़ेसबुक, ट्वीटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो करें)

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN