चर्चित भारतीय क्रिकेटरों के जीवन के मजेदार पहलु।

cricket news unlimited

cricket news unlimited

Author 2019-09-29 02:53:15

1.महेंद्र सिंह धोनी- महेंद्र सिंह धोनी जितने मैदान पर गंभीर और शांत नजर आते हैं उतने ही अपनी जिंदगी में मजाकिया और ह्यूमर से भरे पड़े हैं। लोगों ने अक्सर उनके शांत स्वभाव को देखा है। लेकिन हाल ही में शिखर धवन ने महेंद्र सिंह धोनी के मजाकिया अंदाज के बारे में बताया। जैसे जब महेंद्र सिंह धोनी को छींक आती है तब कहते हैं, "भगवान मुझे नहीं, इसको उठा ले" और महेंद्र सिंह धोनी मजाकिया नामकरण करने में भी कम नहीं हैं। जैसे उन्होंने रविंद्र जडेजा को "सर रविंद्र जडेजा" नाम दिया था, जो काफी चर्चित हुआ था। अक्सर महेंद्र सिंह धोनी विकेट के पीछे सभी खिलाड़ियों को कमेंट करते हुए नजर आते हैं। जैसे कि, एक बार श्रीशांत मैदान में जब इधर उधर देख रहे थे और उनका ध्यान केंद्रित नहीं था तो धोनी का उनको यह कहना, "श्री, इधर देख ले उधर तेरी गर्लफ्रेंड नहीं है" और रॉबिन उथप्पा को यह कहना कि, "गर्लफ्रेंड से रात में बात कर लेना पहले बोल फेंक ले।" 

imgThird party image reference

2. वीरेंद्र सहवाग- वीरेंद्र सहवाग अपने समय में भारतीय ड्रेसिंग रूम के सबसे मजेदार खिलाड़ी थे। वह ड्रेसिंग रूम में मौजूद एक ऐसे खिलाड़ी थे जो ड्रेसिंग रूम का माहौल हमेशा खुशनुमा बनाए रखते थे और मैदान पर भी वह काफी मस्ती करते हुए नजर आते थे। उनके किस्से बहुत ही चर्चित हैं। जैसे बल्लेबाजी करते वक्त अगर वह दबाव में होते थे तो गाना गाते थे। शोएब अख्तर को भी उन्होंने नहीं छोड़ा था और उनकी बात "बाप बाप होता है" काफी चर्चित हुई थी। उनसे जुड़े कई ऐसे किस्से हैं लेकिन आपको उनमें से कुछ किस्से बताना चाहूंगा। एक बार किसी ने वीरेंद्र सहवाग से श्रीलंका के स्पिनर अजंता मेंडिस के बारे में सहवाग से सवाल किया। तो उन्होंने अजंता मेंडिस को बहुत ही हल्के में लेते हुए जवाब दिया, "भाई साहब स्पिनर को स्पिनर एक बैट्समैन बनाता है। अगर आप उसके गेंद को स्पिन ही ना होने दो और उसके पहले ही ओवर में लगातार उसकी गेंद सीमा रेखा के बाहर कर दो, तो वह जिंदगी भर गेंदबाजी नहीं करेगा।" क्रिकेट गेंद के बारे में भी उनकी अनोखी सोच है। उनका सोचना है कि, "गेंद का घर है बाउंड्री उसे वही पहुंचाओ।" सहवाग मैदान के बाहर ही नहीं बल्कि मैदान के अंदर भी काफी मजेदार इंसान हैं। एक बार उन्होंने साउथ अफ्रीका के पॉल हैरिस को कहा कि मैं तुम्हें छक्का मार दूंगा अगर तुम विकेट के दूसरी तरफ से गेंदबाजी करोगे। हुआ भी यही। पॉल हैरिस ने सहवाग की बातों को हल्के में लेते हुए दूसरे छोर से गेंदबाजी की और फिर क्या था सहवाग ने जड़ दिया एक करारा छक्का। सहवाग एक ऐसे खिलाड़ी हैं जोकि न ही मैदान में बल्कि अपने घर पर भी काफी मस्ती करते हैं। हाल ही में क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद वह ट्विटर पर अपना कमाल दिखा रहे हैं। जिसे लोग काफी पसंद करते हैं। बहुत सारे ट्वीट के बीच उन्होंने अपनी बीवी आरती के बारे में भी एक ट्वीट किया था और ट्वीट में लिखा था कि, बीवी के साथ आपको ऐसा रहना चाहिए जैसे विकेट के दूसरे छोर पर खड़ा बल्लेबाज होता है। बीवी को बोलने दो और नॉन स्ट्राइकर की तरह जब लगे कि भागना है भाग लो।

imgThird party image reference

हाल ही में इसी साल विराट कोहली चर्चित मेजबान गौरव कपूर के चैट शो में गए थे और उन्होंने अपने साथी खिलाड़ियों के बारे में कुछ मजेदार बातें बताई। चलिए उसे भी जानते हैं।

3.रोहित शर्मा- भारतीय क्रिकेट टीम में हिटमैन के नाम से चर्चित रोहित शर्मा जितने गंभीर अपने खेल को लेकर हैं। उतने ही निजी जिंदगी में लापरवाह भी हैं। विराट कोहली ने गौरव कपूर के साथ उनके चैट शो में रोहित शर्मा के बारे में बातें की और बताया कि कैसे रोहित शर्मा अपनी चीजों का ख्याल नहीं रख पाते हैं और अक्सर भूल जाते हैं कि उन्होंने अपना सामान कहां छोड़ा है। विराट कोहली ने रोहित शर्मा के बारे में बताया कि, "रोहित शर्मा भूलने के मामले में सबसे आगे हैं। अक्सर वह अपनी चीजें भूल जाते हैं। ऐसा भी नहीं कि छोटी मोटी चीजें बल्कि दिल्ली रोजमर्रा की जरूरी चीजें। जैसे- आईपैड, वॉलेट, फोन और जब उनसे कोई कहता है कि आप ऐसे कैसे कहीं भी अपनी चीजें भूल जाते हो। तो वह जवाब देते हैं, फर्क नहीं पड़ता मैं दूसरा ले लूंगा। विराट कोहली ने आगे बताया कि, कई बार हम होटल में रुकते हैं और जब होटल से मैदान की तरफ जाते हैं या घर वापसी करते हैं तब बीच रास्ते में रोहित शर्मा को याद आता है कि मैं अपना आईपैड भूल गया। रोहित शर्मा कई बार तो अपना पासपोर्ट तक भूल चुके हैं इसलिए अब जब भी हम किसी होटल से बाहर चेक आउट करते हैं तब हमारे लॉजिस्टिकल मैनेजर सबसे पहले यह पूछते हैं कि, रोहित कहीं कुछ भूले तो नहीं हैं।

imgThird party image reference

 4.हार्दिक पांड्या का संगीत से प्यार और उनका बेलगाम जुबान- विराट कोहली ने गौरव कपूर के चैट शो में हार्दिक पांड्या के बारे में भी मजेदार बातें बताई। विराट कहते हैं कि, "हार्दिक पांड्या ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें संगीत से कुछ ज्यादा ही और अनोखा लगाव है। वह शायद टीम में मौजूद कुछ खिलाड़ियों में से होंगे जिनके पास आईपॉड है। जिसमें ज्यादातर गाने अंग्रेजी हैं, जिसके मुश्किल से वह 5 शब्द ही समझ पाते होंगे। उन्हें बस संगीत के धुन से मतलब है और वह आगे बढ़ते चले जाएंगे। हम कई बार उनके गानों से परेशान हो जाते हैं।"

imgThird party image reference

विराट ने हार्दिक के बारे में आगे बताते हुए कहा कि,"हार्दिक जबान के बड़े ही कच्चे हैं। कभी-कभी बिना सोचे कुछ भी बोल जाएंगे। रविचंद्रन अश्विन का नाम भी उन्हें हाल ही में याद हुआ है। कई बार वह रविचंद्रन अश्विन के बारे में यह कह देते हैं कि, रवि कश्यप अश्विन अच्छी बोलिंग करता है। हार्दिक जुबान के भले ही कच्चे हो लेकिन दिल के बहुत साफ है।"

5.शिखर धवन के अनोखे किस्से- विराट कोहली शिखर धवन के बारे में बात करते हुए बताया कि, "एक बार की बात है जब मैं और शिखर धवन दिल्ली की टीम से रणजी ट्रॉफी खेल रहे थे। मैं और शिखर स्लिप में खड़े थे। तभी बार बार एक नया खिलाड़ी मेरे पास आता और मुझसे पूछता, यह बैट अच्छा नहीं है कहां से लिया? यह जूते तुमने कहां से लिए? वह नया खिलाड़ी बार-बार मेरे पास आता और ऐसे ही कुछ सवाल करता। जिससे मैं काफ़ी परेशान हो गया था। जब भी मैं पीछे देखता वह आस-पास ही नजर आता। तभी हमारी टीम के विकेटकीपर पुनीत बिष्ट ने मुझसे उस खिलाड़ी के बारे में कहा कि, वह तुम्हें परेशान जरूर कर रहा है लेकिन वह एक अच्छा इंसान है। तभी बीच में शिखर धवन कूद पड़े और उन्होंने मुझसे अपनी जादुई दिमाग का इस्तेमाल करते हुए कहा, "हां वह अच्छा इंसान है लेकिन वह ऐसा करके तुम्हारे अच्छे नोटबुक में आना चाहता है।" मैं समझ नहीं पाया और धवन से पूछा नोटबुक से तुम्हारा क्या मतलब है? लेकिन धवन ने जवाब दिया "तुम जो भी चाहो वह नोटबुक।" तब मैंने अपना दिमाग लगाया तब जाकर मुझे समझ आया कि धवन का मतलब गुड बुक से था। तब मैंने भी धवन से पूछ लिया, "क्या तुमने कोई भी किताब अपने स्कूल के वक्त हाथ लगाया भी है?"

imgThird party image reference

विराट ने शिखर धवन से जुड़ा एक और किस्सा सुनाते हुए बताया कि, "एक बार हम नये साल का जश्न दिल्ली में एक दोस्त के फॉर्महाउस पर मनाने वाले थे। धवन इस बात को लेकर काफी उत्साहित था और कहता फिर रहा था कि एक बड़ी पार्टी होगी। हमारे सभी दोस्त वहां मौजूद होंगे हम काफी मस्ती करेंगे। तो धवन के इतने ज्यादा उत्साहित होने पर हमने सारा प्लान बना लिया। बात यहां खत्म हुई और शिखर अपने घर के लिए रवाना हो गये। जब रास्ते में थे तो उन्हें किसी का फोन आया। ट्रैफिक ज्यादा होने की वजह से उनका ध्यान फोन से ज्यादा रोड पर था। जिसने फोन किया था उसने कहा कि, "शिखर धवन जी?" शिखर धवन ने रिप्लाई दिया, "हां"। फोन करने वाले ने आगे कहा, "सर, मुंबई में नए साल का एक फंक्शन है और हम आपको मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाना चाहते हैं।" शिखर धवन का गाड़ी चलाने में इतना ध्यान था कि वह बात को अनसुना करके जवाब देते हैं, "हां हां ठीक है, मुझे बाद में कॉल करना।" शिखर का यह बोलना कि हां हां ठीक है फोन करने वाले को शायद मंजूरी दे गया और उसने मुंबई में होने वाले फंक्शन के लिए शिखर धवन का नाम कार्ड तक पर छपवा लिया। उसी शाम शिखर धवन को एक मेल आता है जिसमें दिल्ली से मुंबई फ्लाइट की टिकट थी। शिखर धवन अचंभे में पड़ गये क्योंकि गाड़ी चलाते वक्त उनका ध्यान फोन करने वाले की बातों पर था ही नहीं और शिखर धवन ने पूछा, "कौन हो तुम?" अगले ने घबराते हुए जवाब दिया,"सर मेरी आपसे दोपहर में बात हुई थी और आपने कहा भी था कि हां ठीक है मुझे बाद में कॉल करना। मैंने तो आपका नाम कार्ड पर प्रिंट तक करा दिया है।" शिखर धवन ने उसे जवाब दिया,"वह सब तो ठीक है पर भाई तुम हो कौन?" तब जाकर शिखर धवन को समझ में आया कि उनका ध्यान ना देना उनकी पार्टी को बर्बाद कर चुका है। विराट कोहली आगे कहते हैं कि, "बस फिर क्या था हम सभी दोस्त नए साल की पार्टी के मजे ले रहे थे और शिखर धवन जो कि पार्टी के लिए सबसे ज्यादा उत्साहित थे, वह मुंबई में एक स्टेज पर चीफ गेस्ट बनकर बैठे थे।"

6. युवराज सिंह का आलोचना करने के बहाने- विराट कोहली ने युवराज सिंह से जुड़े किस्से भी बताए। विराट कोहली ने कहा कि, उस समय युवराज मुझे चीकू कहकर पुकारते थे। युवराज सिंह को जब भी भूख लगती थी तो वह अक्सर मुझे बुलाते थे और कहते थे, "चीकू कुछ खाना ऑर्डर कर दे" और मैं उनसे पूछता था, "हां बताइए क्या खाने का मन है?" पर युवराज सिंह कभी नहीं बताते थे कि उन्हें क्या खाने का मन है और कहते थे, "कुछ भी।"तो मैंने अपने मन से खाना ऑर्डर कर दिया और खाने में मैंने पनीर की सब्जी, मकई के साथ पालक और दाल ऑर्डर कर दिया। जब खाना पहुंचा और उन्होंने खाया तो कहते हैं, "तुम इसे दाल कहते हो? बहुत घटिया है। तुम इसे पालक कहते हो?" मैंने सोच कर रखा था कि अगली बार जब भी खाने के लिए कहेंगे तो इस बार तो मैं उनसे पूछ कर रहूंगा कि आपको क्या खाना है, मैं वही मंगा लूंगा। लेकिन युवराज को शायद मुझसे आलोचना करने के लिए ही खाना मंगाना था। इसलिए उन्होंने कभी भी यह नहीं बताया कि वह क्या खाना चाहते हैं। अक्सर वह कह देते थे,"जो भी तुम चाहो"। लेकिन जब भी वह खाना खाते तब शिकायत करते।

imgThird party image reference

कमेंट करके बताइए कि आपको सबसे मजेदार क्या लगा? खबर अच्छी लगी तो लाइक, कमेंट और शेयर करें। ऐसे ही और खबरों से अपडेट रहने के लिए फॉलो बटन पर क्लिक करें।

READ SOURCE

Experience triple speed

Never miss the exciting moment of the game

DOWNLOAD