जानिए किस कारण 'ओपनिंग के लिए सचिन को पड़ा था गिड़गिड़ाना"

Hindustanvarta

Hindustanvarta

Author 2019-09-26 12:31:08

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) की गिनती संसार के महानतम क्रिकेटर्स में होती हैं। टेस्‍ट और वनडे क्रिकेट में उनसे ज्‍यादा रन किसी ने नहीं बनाए हैं, लेकिन अपने शुरुआती करियर में उन्‍हें बहुत ज्यादा प्रयत्न करना पड़ा था। इसी बारे में उन्‍होंने अब खुलासा करते हुए बताया कि सलामी बल्‍लेबाज (Opening Batsman) के रूप में मौका देने के लिए उन्‍हें मिन्‍नतें करनी पड़ी थी। करियर के आरंभ में सचिन को मिडिल ऑर्डर (Middle Order) में खिलाया गया था, लेकिन उन्हें यहां पर ज्‍यादा कामयाबी नहीं मिली। इसके बाद सितंबर 1994 में उन्‍होंने पहली बार भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket team) के लिए बल्‍लेबाजी की आरंभ की थी व शतक लगाया था।

img

एक चैट शो में सचिन ने ओपनिंग में आरंभ करने के बारे में मजेदार किस्‍सा सुनाया। उन्‍होंने बताया कि किस तरह ओपनिंग के लिए उन्‍हें गिड़गिड़ाना पड़ा। सचिन ने कहा, '1994 में जब मैंने हिंदुस्तान के लिए बल्‍लेबाजी प्रारम्भ की थी तब सभी टीमों की रणनीति विकेट बचाना थी। मैंने अलग हटकर सोचने का कोशिश किया। मैंने सोचा कि मैं ऊपर जाकर विपक्षी गेंदबाजों पर हमला करूं। लेकिन मुझे इस मौके लिए गिड़गिड़ाना पड़ा। मैंने बोला यदि मैं नाकाम हो गया दोबारा आपके पास नहीं आऊंगा। '

'नाकाम होने से मत घबराओ'
सचिन तेंदुलकर ने आगे बताया, 'पहले मैच (ऑकलैंड में न्‍यूजीलैंड के खिलाफ) में मैंने 49 गेंद में 82 रन बनाए इसलिए मुझे दोबारा मौका दिए जाने के बारे में पूछने की आवश्यकता नहीं पड़ी। वे मुझसे ओपनिंग कराने को तैयार थे। मैं यह बोलना चाहता हूं कि नाकाम होने से मत घबराओ। '
सचिन ने वनडे में लगाया रनों का अंबार
सलामी बल्‍लेबाज के रूप में जमने के बाद सचिन ने लगातार पांच पारियों में 82, 63, 40, 63 व 73 रन के स्‍कोर बनाए थे। सचिन ने अपना पहला वनडे शतक 76वीं पारी में ऑस्‍ट्रेलिया के विरूद्ध कोलंबो में बनाया था। उनका यह शतक भी ओपनिंग करते हुए ही बनाया था। सचिन तेंदुलकर जब रिटायर हुए थे तब उनके नाम अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में 100 शतक थे। उनके नाम 463 वनडे पारियों में 18426 रन हैं।

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN