जानिये आज के दिन ऐसा क्या हुआ था क्रिकेट के इतिहास मे

Hindustanvarta

Hindustanvarta

Author 2019-11-10 12:57:28

यूं तो इंटरनेशनल क्रिकेट में दक्षिण अफ्रीका (South Africa Cricket) एक तगड़ी टीम मानी जाती रही, लेकिन एक समय था जब यह टीम लंबे समय तक इंटरनेशनल क्रिकेट से दूर रही थी। 10 नवंबर 1991 को इस टीम ने 21 वर्ष बाद इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी की थी। उससे पहले दक्षिण अफ्रीका ने ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध (SA vs AUS) 1969-70 में कोई सीरीज खेली थी। इसके 21 वर्ष बाद दक्षिण अफ्रीका ने वनडे सीरीज से प्रारम्भ किया था, जिसका पहला मैच कोलकाता में खेला गया था। img

क्यों लगा था बैन
इस देश में रंगभेद के चलते संसार भर का विरोध झेलना पड़ा था जिसकी वजह से 1669-70 में ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध हुई सीरीज के बाद टीम को 21 वर्ष तक इंटरनेशनल क्रिकेट से दूर रहना पड़ा था। 1970 में दक्षिण अफ्रीका सरकार ने नियम बना दिया था कि उनकी टीम केवल इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया व न्यूजीलैंड के विरूद्ध ही क्रिकेट खेल सकेगी व तब की सरकार ने विरोधी टीम में भी श्वेत खिलाड़ियों का होना भी महत्वपूर्ण कर दिया था। इस वजह से आईसीसी ने दक्षिण अफ्रीका पर प्रतिबंध लगा दिया था। जो 21 वर्ष बाद नयी सरकार आने के बाद रंगभेद की यह नीति समाप्त होने पर ही समाप्त हो सका था।

भारत में हुआ पहला दौरा
दक्षिण अफ्रीका का आईसीसी से वापस जुड़ने के बाद पहला दौरा हिंदुस्तान में हुआ। इस दौरे में दोनों टीमों को तीन वनडे मैच की सीरीज खेलनी थी। पहला मैच कोलकाता में हुआ था जिसने 10 नवंबर का दिन ऐतिहासिक बना दिया था। इस मैच में भले ही अतिथि टीम जीत हासिल करने में नाकाम रही है, लेकिन उसने अपने प्रदर्शन से संसार को प्रभावित जरूर किया। यह बात जल्द ही टीम ने साबित भी कर दी।

पहले मैच में टीम इंडिया की जीत
इस मैच में टीम इंडिया ने तीन विकेट से जीत हासिल की थी। लेकिन मैच उतना संघर्षपूर्ण नहीं था। इस सीरीज में दक्षिण अफ्रीका की कप्तानी क्लाइव राइस ने की थी जो उनके करियर की पहली व आखिरी वनडे सीरीज साबित हुई। वहीं टीम इंडिया की कप्तानी मोहम्मद अजहरुद्दीन ने की।

खराब आरंभ रही मेहमानों की
टीम इंडिया के कैप्टन अजहरुद्दीन ने टॉस जीतकर पहले राइस की टीम को बल्लेबाजी करने को कहा। अतिथि टीम की आरंभ बेकार रही जब एंड्रयू हडसन कपिलदेव की गेंद पर विकेट के पीछे किरन मोरे को कैच देकर पवेलियन वापस लौट गए। इसके बाद कुक को जगावल श्रीनाथ ने पवेलियन वापस भेज दिया। फिर पीटर कर्स्टन भी जल्दी ही आउट हो गए। केप्लर वेसेल्स ने फिफ्टी लगाकर टीम को स्कोर 100 के पार कराया। केप्लर के अतिरिक्त कूपियर ने 43 रन की पारी खेली व दक्षिण अफ्रीका ने 50 ओवर में 8 विकेट पर 177 रन बनाए।

सचिन ने उबारा शुरुआती झटकों से
178 रन का पीछा करते हुए टीम इंडिया की आरंभ भी बहुत बेकार रही। एनल डोनाल्ड ने रवि शास्त्री (0), नवजोत सिंह सिद्धू (6), व संजय मांजरेकर (1) केवल 20 रन के कुल स्कोर पर पवेलियन लौटा दिया। इसके बाद सचिन व अजहर ने पारी को संभाला, लेकिन अजहर 16 रन जोड़कर आउट हो गए। इसके बाद सचिन ने टीम इंडिया का स्कोर 100 के पार कराया। 116 के स्कोर पर सचिन 62 रन बनाकर डोनाल्ड के शिकार हो गए।

प्रवीण आमरे ने जीत तक पहुंचाया
इसके बाद कपिल तो ज्यादा देर नहीं टिक सके लेकिन प्रवीण आमरे ने हाफ सेंचुरी लगाकर, आउट होने से पहले टीम को जीत की दहलीज पर ला दिया। वे स्कोर बराबार करने के बाद आउट हो गए। मनोज प्रभाकर ने आमरे का अंत तक साथ दिया व वे किरन मोरे के साथ नाबाद पवेलियन लौटे।

डोनाल्ड-सचिन को मिला मैन ऑफ द मैच
एनल डोनाल्ड ने अतिथि टीम के लिए 8.4 ओवर में 29 रन देकर पांच विकेट लिए उन्हें सचिन तेंदुलकर के सात मैन ऑफ द मैच का खिताब दिया गया।

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN