दिल्ली में ही भिड़ेंगे भारत-बांग्लादेश

Dainik Tribune Online

Dainik Tribune Online

Author 2019-10-29 17:04:38

दिल्ली, 28 अक्तूबर (एजेंसी)
imgदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि प्रदूषण का भारत और बांग्लादेश के बीच यहां तीन नवंबर को होने वाले टी-20 अंतर्रााष्ट्रीय क्रिकेट मैच पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि वायु गुणवत्ता में सुधार के लिए उनकी सरकार ने कई कदम उठाए हैं। केजरीवाल ने कहा कि इस सत्र में दिल्ली में मैचों का आयोजन किया गया है और रविवार को अरुण जेटली स्टेडियम में होने वाला मैच भी खेला जाना चाहिए।
दिल्ली में प्रदूषण का स्तर चिंता का कारण बन गया है। दीपावली के एक दिन बाद सोमवार को मौजूदा सत्र में पहली बार वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ स्तर पर पहुंच गई। केजरीवाल ने दिल्ली सचिवालय में संवाददाताओं से कहा कि उम्मीद करता हूं कि प्रदूषण क्रिकेट के रास्ते में नहीं आएगा। प्रदूषण कम करने के लिए हम चार नवंबर से सम-विषम योजना भी लागू कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि मैंने देखा है कि इस सत्र में मैचों का आयोजन किया गया है। दिल्ली में मैच खेला जाना चाहिए।
बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पिछले हफ्ते पीटीआई से कहा था कि हमने दिवाली के बाद दिल्ली में होने वाले वायु प्रदूषण को ध्यान में रखा है, लेकिन मैच में एक हफ्ते का समय है इसलिए हमें उम्मीद है कि खिलाड़ियों को स्वास्थ्य से संबंधित किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। भारत में अंतर्राष्ट्रीय मैचों के आयोजन के लिए बीसीसीआई द्वारा अपनाई जाने वाली रोटेशन नीति और मेहमान टीम के यात्रा कार्यक्रम के कारण बोर्ड को दौरे का पहला मैच दिल्ली में कराने के लिए बाध्य होना पड़ा और अब क्रिकेट बोर्ड को उम्मीद है कि शहर की खराब वायु गुणवत्ता दिन-रात्रि के इस मैच में कोई मुद्दा नहीं बनेगी।

2017 में बीमार हो गए थे श्रीलंका के खिलाड़ी
दिसंबर 2017 में श्रीलंका क्रिकेट टीम को इसी मैदान पर प्रदूषण के बढ़े हुए स्तर के कारण काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था। तब इस मैदान को फिरोजशाह कोटला के नाम से जाना जाता था। श्रीलंका के खिलाड़ी प्रदूषण से बचाव करने वाले मास्क पहनकर भी उतरे थे, लेकिन इसके बावजूद कुछ खिलाड़ी बीमार हो गए थे।

बीसीबी अध्यक्ष बोले- दौरे को नुकसान  पहुंचाने का प्रयास कर रहे लोग

ढाका (एजेंसी) : बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) के अध्यक्ष नजमुल हसन ने आरोप लगाया है कि बांग्लादेश के आगामी भारत दौरे को नुकसान पहुंचाने के लगातार प्रयास किए जा रहे हैं और देश के शीर्ष क्रिकेटरों की 11 मांगों को लेकर की गई हड़ताल इसका हिस्सा है। तीन टी-20 और दो टेस्ट के बांग्लादेश के चार हफ्ते के भारत दौरे से पहले बांग्लादेश के खिलाड़ियों ने अंतर्राष्ट्रीय और प्रथम श्रेणी स्तर पर बेहतर वेतन को लेकर हड़ताल की थी, लेकिन बीसीबी के मांग मानने पर सहमत होने के बाद इसे वापस ले लिया था। हसन ने शीर्ष बंगाली दैनिक ‘प्रोथोम आलो’ को दिए साक्षात्कार में कहा कि आप लोगों (मीडिया) ने भारत दौरे को लेकर अब तक कुछ नहीं देखा है। इंतजार कीजिए और देखिए। अगर मैं कह रहा हूं कि मेरे पास सूचना है कि यह भारतीय दौरे को नुकसान पहुंचाने का षड्यंत्र है तो आपको मुझ पर विश्वास करना चाहिए। वह ऐसा क्यों सोचते हैं जब इस बारे में विस्तार से बताने को कहा गया तो हसन ने संदेह जताया कि जिस तरह सीनियर सलामी बल्लेबाज तमीम इकबाल अपनी पत्नी के प्रसव का हवाला देकर दौरे से हट गए, जबकि शुरुआत में वह सिर्फ अंतिम टेस्ट से बाहर रहने पर सहमत हुए थे। हसन ने कहा कि तमीम ने शुरुआत में मुझे बताया था कि वह अपने दूसरे बच्चे के जन्म के कारण सिर्फ दूसरे टेस्ट (कोलकाता में 22 से 26 नवंबर) से बाहर रहेंगे। हालांकि खिलाड़ियों के साथ बैठक के बाद तमीम मेरे कमरे में आया और कहा कि वह पूरे दौरे से बाहर रहना चाहता है।

READ SOURCE

Experience triple speed

Never miss the exciting moment of the game

DOWNLOAD