पुणे में भी अग्रवाल का धमाल

Divya Himachal

Divya Himachal

Author 2019-10-11 02:37:04

अफ्रीका के खिलाफ लगातार दूसरे टेस्ट में सैकड़ा, पहले दिन भारत के 273 रन

पुणे – सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल (108) के लगातार दूसरे शतक से भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट के पहले दिन गुरुवार को तीन विकेट पर 273 रन बनाकर अपनी स्थिति मजबूत कर ली। मयंक ने विशाखापट्टनम में पहले टेस्ट की पहली पारी में दोहरा शतक (215) जड़ा था और अब उन्होंने 108 रन बना डाले। मयंक ने 195 गेंदों पर 108 रन की पारी में 16 चौके और दो छक्के लगाए। पहले टेस्ट की दोनों पारियों में शतक बनाने वाले रोहित शर्मा इस बार 35 गेंदों में 14 रन बनाकर आउट हुए। चेतेश्वर पुजारा ने 112 गेंदों में नौ चौकों और एक छक्के की मदद से 58 रन की पारी खेली। पहले दिन का खेल 85.1 ओवर पर समाप्त किया गया। स्टंप्स पर कप्तान विराट कोहली 105 गेंदों में 10 चौकों की मदद से 63 रन और अजिंक्या रहाणे 70 गेंदों में तीन चौकों के सहारे 18 रन बनाकर क्रीज पर थे। विराट ने अपने करियर का 23वां अर्द्धशतक बनाया, जबकि पुजारा ने अपना 22वां अर्द्धशतक बनाया। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सुबह टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। लगातार दो शतक बनाने के बाद मैदान पर उतरे रोहित बड़ी पारी तो नहीं खेल पाए, लेकिन उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाजों को शुरुआत में हावी नहीं होने दिया। रोहित ने 35 गेंदें खेली और 14 रन में एक चौका लगाया। रोहित का विकेट 10वें ओवर की आखिरी गेंद पर गिरा और कैगिसो रबादा ने उन्हें विकेटकीपर क्विंटन डी कॉक के हाथों कैच कराया। भारत ने पहला विकेट 25 के स्कोर पर गंवाया। मैदान पर उतरे पुजारा ने मयंक के साथ दूसरे विकेट के लिए 138 रन की मजबूत साझेदारी की। दोनों ने लंच तक भारत का स्कोर 77 रन पहुंचाया। मयंक ने लंच के बाद अपने 50 रन 112 गेंदों में पूरे किए, जिसमें उन्होंने 10 चौके लगाए। विशाखापट्टनम टेस्ट की दूसरी पारी में 81 रन बनाने वाले पुजारा ने 107 गेंदों में अपने 50 रन पूरे किए, जिसमें आठ चौके और एक छक्का शामिल था। पुजारा का विकेट चायकाल से ठीक पहले गिरा। पुजारा को रबाडा ने फाफ डू प्लेसिस के हाथों कैच कराया। पुजारा का विकेट 163 के स्कोर पर गिरा और चायकाल के समय भारत का स्कोर 168 रन था। मयंक 86 रन बना चुके थे और अपने दूसरे शतक की तरफ अग्रसर थे। मयंक ने चायकाल के बाद पारी के 57वें ओवर में वेर्नोन फिलेंडर की गेंद पर चौका लगाकर अपना शतक पूरा कर लिया। उन्होंने अपना बल्ला उठाकर दर्शकों का अभिवादन स्वीकार किया, जबकि कप्तान विराट ने उनकी पीठ थपथपा कर इस शानदार प्रदर्शन की बधाई दी। मयंक अपना शतक पूरा करने के बाद टीम के 198 के स्कोर पर आउट हुए। मयंक का विकेट भी रबाडा ने ही लिया। मयंक ने 108 रन बनाए और विराट के साथ तीसरे विकेट के लिए 35 रन की साझेदारी की। विराट ने फिर रहाणे के साथ चौथे विकेट की अविजित साझेदारी में 75 रन जोड़कर भारत को मजबूत स्कोर की तरफ अग्रसर कर दिया। विराट ने फिलेंडर की गेंद पर ही चौका लगाकर अपना 23वां अर्द्धशतक पूरा किया। उन्होंने 50 रन के लिए 91 गेंदें खेली, जिसमें आठ चौके शामिल थे। विराट का मजबूती से रहाणे ने साथ दिया जो अबतक 18 रन के लिए 70 गेंदें खेल चुके हैं। पहले दिन का खेल खराब रोशनी के कारण 85.1 ओवर के बाद समाप्त कर दिया गया। दक्षिण अफ्रीका की तरफ से रबादा एकमात्र सफल गेंदबाज रहे, जिन्होंने 18.1 ओवर में 48 रन देकर तीन विकेट हासिल किए। दक्षिण अफ्रीका ने छह गेंदबाजों का इस्तेमाल किया, जिसमें सफलता सिर्फ रबाडा के हाथ लगी।

चौथी बार एक सीरीज में ओपनर्स के चार शतक

1970-71 में वेस्टइंडीज के खिलाफ

1978-79 में वेस्टइंडीज के खिलाफ

2009-10 में श्रीलंका के खिलाफ

2019-20 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ

दो मैचों में बैक टू बैक सेंचुरी ठोंक मयंक ने की सहवाग की बराबरी

लगातार दो टेस्ट में दो शतक जड़कर मयंक ने पूर्व टेस्ट ओपनर वीरेंदर सहवाग की बराबरी कर ली है। मयंक से पहले वीरेंदर सहवाग ने साउथ अफ्रीका के ही खिलाफ 2009-10 में लगातार दो टेस्ट मैच में शतक जड़े थे। पुणे टेस्ट मैच से पहले मयंक ने विशाखपट्टनम टेस्ट मैच की पहली पारी में दोहरा शतक जमाया था। उन्होंने उम्दा 215 रन की पारी खेली थी और अपने पहले ही टेस्ट शतक दोहरे शतक में तबदील किया था।

दूसरे टेस्ट में कमाल करना सुखद पल

पुणे – दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट के पहले दिन शतक जमाने वाले भारतीय सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल ने गुरुवार को कहा कि सीरीज के लगातार दो मुकाबलों में शतक जड़ना उनके लिए बेहद सुखद अनुभव है। मयंक ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच की पहली पारी शानदार प्रदर्शन करते हुए 108 रन बनाए, जिसकी बदौलत भारतीय टीम मजबूत स्थिति में पहुंच सकी। मयंक ने मैच के बाद कहा कि मुझे बहुत खुशी है कि मैं लगातार दो मैचों में दो शतक लगा पाया और इससे मुझे काफी सुखद अनुभव हो रहा है। टीम अच्छी स्थिति में है। हमने टॉस जीता, पहले बल्लेबाज चुनी और टीम में एक बल्लेबाज कम होने के बावजूद हम अच्छे रन बना सके। उन्होंने कहा कि मैच में एक समय था जब रन नहीं बन रहे थे। दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाज कसी हुई गेंदबाजी कर रहे थे और हमें रन नहीं बनाने दे रहे थे। मैंने अपने खेल पर संयम रखा और अपने प्रदर्शन को सुधारा। मयंक ने कहा कि पिच में थोड़ी नमी थी। फिलेंडर और रबाडा कसी हुई गेंदबाजी कर रहे थे। हमें पता था कि हमें सधी हुई बल्लेबाजी करनी है और सीधे खेलना है तथा खराब गेंद का इंतजार कर आक्रमण करना है।

गांगुली से आगे निकले विराट

कोहली का कप्तान के तौर पर यह 50वां टेस्ट है। वह इस उपलब्धि को हासिल करने वाले दूसरे भारतीय कप्तान हैं। इससे पहले महेंद्र सिंह धोनी ने 2008 से 2014 तक 60 मैच में कप्तानी की थी। वहीं, सौरव गांगुली ने 2000 से 2005 तक 49 मैच में टीम का नेतृत्व किया था।

विहारी की जगह उमेश यादव

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। हनुमा विहारी की जगह उमेश यादव को अंतिम एकादश में जगह मिली। दूसरी ओर दक्षिण अफ्रीका ने एक बदलाव करते हुए डेन पीट की जगह एनरिच नोर्त्जे को टीम में शामिल किया।

हेलमेट पर गेंद, डटे रहे मयंक

मैच के दूसरे ओवर में मयंक अग्रवाल बाल-बाल बचे। नॉत्जे की एक पटकी गेंद तेजी से मयंक अग्रवाल की ओर आई और उनके हेलमेट पर जाकर लगी। हेलमेट से टकराकर गेंद चार रन के लिए चली गई। गनीमत रही कि गेंद हेलमेट के ऊपरी सिरे पर लगी जहां कोई खतरा नहीं था। हालांकि फिर भी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए टीम इंडिया के फिजियो ने अग्रवाल की जांच की, फिर वह बैंटिंग करने के लिए क्रीज पर लौटे।

The post पुणे में भी अग्रवाल का धमाल appeared first on Divya Himachal: No. 1 in Himachal news - News - Hindi news - Himachal news - latest Himachal news.

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN