फुटबॉल के भी दीवाने हैं विराट

Sameera

Sameera

Author 2019-09-30 10:30:00

img

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली अगर एक क्रिकेटर न होते तो संभवत: वह फुटबॉल खेल रहे होते। फिटनेस के प्रति भारतीय कप्तान के समपर्ण ने अन्य खिलाड़ियों के लिए भी फिटनेस के मानकों को कड़ा बना दिया है और फुटबॉल के प्रति उनकी दीवानगी भी किसी भी छिपी नहीं है। वह आईएसएल टीम एफसी गोवा से भी जुड़े हैं।
विराट ने कहा कि वह अभी अपने फाउंडेशन (विराट कोहली फाउंडेशन) के साथ मिलकर ऐथलीट डिवेलपमेंट प्रोग्राम चला रहे हैं। इसके तहत जो अकैडमी और स्ट्रक्चर तैयार करने का हम प्रयास कर रहे हैं वह भविष्य में एफसी गोवा की योजनाओं का भी बड़ा हिस्सा होगा। हम चाहते हैं कि हम ऐसे खिलाड़ी विकसित करें, जो एफसी गोवा के लिए खेलें और फिर वे राष्ट्रीय टीम का भी प्रतिनिधित्व करें। ये ऐसी चीज हैं, जो मुझे उत्साहित करती हैं और इस प्रकार की चीजों में मैं अपनी ऊर्जा लगाना चाहता हूं। मैं बस केवल स्टेडियम में नहीं दिखना चाहता लेकिन मैं चाहता हूं कि जमीनीस्तर पर मैं दिखूं, जहां से मैं खिलाड़ियों पर प्रभाव छोड़ सकूं। अगर एक सही सिस्टम कहीं पर काम करता है तो फिर कोई भी खेल अच्छे स्वरूप में आता ही है। मेरी रिटायरमेंट के बाद ये ऐसी चीजें हैं, जो मेरी प्राथमिकताओं में शुमार होंगी। अब मैं एफसी गोवा से जुड़ा हूं तो फुटबॉल पर मेरा ध्यान जाएगा ही लेकिन सामान्य रूप से मैं अन्य खेलों के लिए ऐसा योगदान देना चाहता हूं, जिससे जमीनी स्तर पर लोगों को लाभ मिल सके।
फुटबॉलर्स हमेशा कड़े अनुशासन में रहते हैं। यह इस खेल की जरूरत है, यहां मैदान पर उतरने के बाद अपना श्रेष्ठ देने के लिए आपको इस स्तर पर होना ही पड़ेगा। फुटबॉल खिलाड़ी अपने प्रफेशनल, शारीरिक तैयारियों, पोषण और बाकी के समय के लिए बहुत अनुशासित रहते हैं। हम उनसे काफी कुछ सीखते हैं।
भारतीय कप्तान का मानना है कि आप इनसे तुलना नहीं सकते। मैं मानता हूं कि इनके साथ अगर किसी की तुलना की जा सकती है, तो वे तेज गेंदबाज हैं। क्रिकेट ऐसा खेल नहीं है, जहां हैरतअंगेज रूप से शारीरिक ताकत की जरूरत हो। फुटबॉल बहुत तेज खेल है, जो 90 मिनट के भीतर पूरा हो जाता है। इसके लिए आपको खेल की स्थितियों पर अपना नियंत्रण रखने के लिए बिल्कुल फिट रहना होता है। क्रिकेट में फिटनेस की इस स्तर (फुटबॉल जितनी) की जरूरत नहीं होती। लेकिन अगर आप खुद को फुटबॉलर्स जितना फिट रखना चाहते हैं, तो आप क्रिकेट में कई चीजों को अलग स्तर पर जाकर संभव बना सकते हैं। क्रिकेटर्स की तुलना में फुटबॉलर्स कहीं ज्यादा फिट होते हैं।
विराट की नजर में मेसी सबसे ज्यादा पूर्ण खिलाड़ी नजर आते हैं। चाहे उनके लेफ्ट पैर की बात हो या फिर राइट पैर की। उनकी स्पीड की बात हो या फिर उनकी ड्रिबलिंग की प्रतिभा की। वह हैरतअंगेज हैं। मैंने उनसे बेहतर गोल करने वाला खिलाड़ी नहीं देखा। दूसरी ओर रोनाल्डो की बात करें तो वह अलग हैं। उन्होंने इस खेल में नई क्रांति लाई और हर किसी ने उन्हें फॉलो किया। उनका एक खास स्थान है, लेकिन अगर मुझे दोनों में किसी एक को ही लेना है, जो मेरी टीम को ऊर्जा और मजबूती दे, वे रोनाल्डो ही हैं।
मेसी फुर्तीले खिलाड़ी हैं, उनमें स्वभाविक टैलंट है और उनकी क्षमता किसी से भी पीछे नहीं है। मेरे लिए जो चीज मायने रखती है वह है खेल के प्रति मिनट अपनी क्षमताओं को भरपूर प्रयोग। इसके लिए रोनाल्डो खुद को दूसरों से अलग करते दिखते हैं। टॉप लेवल पर खेलने वाले सभी खिलाड़ी प्रतिभाशाली होते हैं लेकिन मैं नहीं मानता कि जिस इच्छा के साथ वह खेलते हैं कोई दूसरा खिलाड़ी भी उनकी जैसी इच्छा से खेलता है।

READ SOURCE

Experience triple speed

Never miss the exciting moment of the game

DOWNLOAD