रोहित और भारतीय तेज गेंदबाजों के नाम रही यह सीरीज

Rochak Khabare

Rochak Khabare

Author 2019-10-23 00:03:00

img

रांची टेस्ट को पारी और 202 रनों के रिकॉर्ड अंतर के साथ जीत कर भारत ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज को 3-0 से अपने नाम कर लिया। साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारत ने पहली बार सीरीज के सभी मुकाबलों में जीत दर्ज की है। भारत की यह जीत कई मायनों में खास है जिसमें सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा और तेज गेंदबाजों का प्रदर्शन सबसे अहम रहा।

रोहित शर्मा के करियर को मिली नई पहचान-

loading...

वनडे और टी20 में अपनी सलामी बल्लेबाजी का जौहर दिखा चुके रोहित शर्मा लंबे समय से टेस्ट टीम में जगह बनाने की कोशिश कर रहे थे। टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत तो उन्होंने शानदार की लेकिन उसे बरकरार नहीं रख पाए। छह साल तक वो टीम में अंदर बाहर होते रहे। इस बीच शिखर धवन, मुरली विजय, लोकेश राहुल और पृथ्वी शॉ (बैन के कारण बाहर) के खराब प्रदर्शन ने भारतीय थिंक टैंक को रोहित के साथ प्रयोग करने की खुली छूट दे दी।

विशाखापत्तनम में खेले गए पहले टेस्ट की दोनों पारी में 176 और 127 रनों की पारी खेल रोहित ने बतौर सलामी बल्लेबाज टेस्ट करियर का बेहतरीन आगाज किया। उन्हें मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड मिला। दूसरे टेस्ट में रोहित कुछ खास नहीं कर पाए और महज 14 रन ही बना सके लेकिन उनकी बल्लेबाजी का सबसे खास लम्हा रांची में आने वाला था।

खुद को सलामी बल्लेबाज के रूप में स्थापित करने वाले रोहित ने रांची में 212 रनों की बेमिसाल पारी खेली। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 83 के ऊपर का रहा जिसे पता चलता है कि उन्होंने अपने स्वभाविक खेल के साथ किसी तरह से समझौता नहीं किया।

रोहित के नाम दर्ज हुए कई रिकॉर्ड-

इस सीरीज की बात करें तो उन्होंने एक दोहरे शतक के साथ कुल तीन शतक लगाए। तीन मैचों की सीरीज में चार बार बल्लेबाजी के लिए उतरे और 132.25 की औसत से कुल 529 रन बनाए। भारत और साउथ अफ्रीका के बीच एक सीरीज में सबसे अधिक रन बनाने का रिकॉर्ड अब रोहित शर्मा के नाम दर्ज हो चुका है। रोहित को इस रिकॉर्ड प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द सीरीज चुना गया।

अपनी पारी में रोहित ने गेंदबाजों की जमकर खबर ली और कुल 62 चौके और 19 छक्के लगाए। एक सीरीज में सबसे अधिक छक्का लगाने का रिकॉर्ड अब रोहित शर्मा के नाम दर्ज हो चुका है। इतना ही नहीं 62 चौकों की संख्या भी रिकॉर्ड बुक में पहले स्थान पर पहुंच गई है।

रोहित का घरेलू मैदान पर टेस्ट औसत अब सर्वकालिन महान सर डॉन ब्रैडमेन से भी आगे चला गया है। ब्रैडमेन ने अपने करियर में घेरलू मैदान पर 98.22 की औसत से रन बनाए जबकि रोहित ने 99.84 की औसत से रन बनाए हैं। घरेलू मैदान पर रोहित का बल्ला सबसे तेज रहा है। लेकिन उनकी असली परीक्षा विदेशी धरती पर होगी। भारत को पहले न्यूजीलैंड और फिर ऑस्ट्रेलिया की विदेशी दौरा करना है।

भारत को मिली नई सलामी जोड़ी

रोहित शर्मा के साथ मयंक अग्रवाल ने भी अपनी प्रतिभा के साथ पूरा न्याय किया। पहले टेस्ट में उन्होंने 215 रनों की लाजवाब पारी खेली, यह उनके करियर का पहला शतक था। तीन मैच की चार पारी में दो शतक के साथ उन्होंने कुल 340 रन बनाए और रनों के मामले में रोहित के बाद दूसरे स्थान पर रहे। इस सीरज ने भारत को एक नई सलामी जोड़ी दी जिसने साथ बल्लेबाजी करते हुए सीरीज में कुल 375 रनों की साझेदारी की।

स्पिनरों से ज्यादा प्रभावी रहे भारतीय तेज गेंदबाज

भारतीय सरजमीं पर खेले गए टेस्ट सीरीज में कम ही बार ऐसा देखने को मिलता है कि विदेशी टीम को भारत के तेज गेंदबाजों ने पूरी तरह से बेदम कर दिया हो। टीम के नंबर एक गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के बिना उतरी भारतीय पेस अटैक ने अपने खेल से सबका दिल जीत लिया।

इस सीरीज में सबसे अधिक विकेट लेने के मामले में रविचंद्रन अश्विन आगे रहे। उन्होंने कुल 15 विकेट चटकाए जिसमें पहले टेस्ट में 8 विकेट उनके नाम रहा था। रविन्द्र जडेजा ने कुल 13 विकेट चटकाए। लेकिन गेंदबाजी में हल्ला बोला मोहम्मद शमी और उमेश यादव ने।

2015 में जब साउथ अफ्रीका भारत के दौरे पर आई थी तो स्पिनरों के खिलाफ उनकी कमजोरी खुल कर सामने आ गई थी। इस बार उनके बल्लेबाजों ने स्पिन पर काम किया लेकिन विकेट तेज गेंदबाज निकाल के ले गए। भले ही ईशांत शर्मा दो मुकाबले में दो ही विकेट निकाल पाए लेकिन उमेश यादव और मोहम्मद शमी ने टीम को निराश नहीं किया।

उमेश और शमी का प्रदर्शन-

शमी ने तीन मैच की 6 पारी में 74.5 ओवर की गेंदबाजी की और 32/5 के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ उन्होंने 13 विकेट अपने नाम किए। उनका स्ट्राइक रेट 34.5 का रहा। दूसरी तरफ दो मैच खेलने वाले उमेश यादव ने 3/22 के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ कुल 11 विकेट अपने नाम किए। उनका स्ट्राइक रेट महज 21.2 का रहा।

साउथ अफ्रीका के तेज गेंदबाजों ने जहां महज 10 विकेट चटकाए वहीं भारतीय तेज गेंदबाजों ने कुल 60 में से 26 विकेट चटकाए जिसके कारण भारत को दो बार पारी से जीत दर्ज करने का मौका मिला।

READ SOURCE

Experience triple speed

Never miss the exciting moment of the game

DOWNLOAD