वानखेड़े स्टेडियम, 2011 वर्ल्ड कप, 97 रन और एक गौतम गंभीर

Liveindia

Liveindia

Author 2019-10-14 03:25:09

New Delhi : सामने था श्रीलंकाई  गेंदबाज और पिच पर मुस्तैद था एक गंभीर खिलाड़ी। जिसने खेल को आगे बढ़ाने के लिए अपना पसीना बहाया। 2011 वर्ल्ड कप में सभी लोग दो चीजें याद करते हैं पहला सचिन को कोहली द्वारा कंधे पर उठाकर स्टेडियम में घूमाना और दूसरा धोनी का विनिंग छक्का। इस बीच हम एक शख्स को कहीं भूल से गए हैं। वो शख्स जो 97 रन बनाकर पवेलियन लौटा। वो शख्स जो शायद वर्ल्ड कप में शतक जड़ने वाला पहला क्रिकेटर बन जाता। जो मात्र 3 रन पहले परेरा की गेंद का शिकार हुआ क्योंकि उसे अपने रिकॉर्ड से ज्यादा जरूरी टीम की जीत लगी।

imgटक्कर लेने के लिए हमेशा तैयार।

14 अक्टूबर 1981 को नई दिल्ली में पैदा हए गौतम गंभीर किसी से डरते नहीं थे। जो दिल में होता उसे जुबान पर रखते। गुस्से में चेयर फेंकने से लेकर गा’ली ग’लौच तक उन्होंने हर उस आदमी से लोहा लिया जिसका खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ सकता था। कहते हैं ना कि कुछ लोगों के लिए उनकी इगो ज्यादा इम्पोरटेंट होती है। ये अपने आत्मसम्मान के लिए मैदान में डटे रहते थे।

भारत को पहली बोलती फिल्म आलम आरा देने वाले आर्देशिर ईरानी

फिलहाल बीजेपी से सांसद हैं। एक क्रिकेटर बनकर जो देश के लिए कर सकते थे किया और वैसा ही अब कर रहे हैं। ये भारत में राजनीति का रूप बदलना चाहते हैं। ये पार्टियों के बीच आरोप प्रत्यारोप की राजनीति को खत्म करना चाहते हैं। इनके अनुसार इंसान का काम बोलता है। अभी शहीद हुए फौजी भाइयों के 100 बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठा रहे हैं।

कमाल की बल्लेबाजी और कदमों का सही इस्तेमाल, गंभीर जहां भी खेले कमाल का खेले। 2011 का वर्ल्ड कप था और अपनी होने वाली पत्नी नताशा को बोले की वानखेड़े मैच देखने आ जाओ। तो ऐसे में उनका जवाब था कि ये मैच कितना इंपोरटेंट है? दरअसल नताशा की क्रिकेट में कोई रुचि नहीं थी। उसके बाद आईपीएल देखने गईं और वहां अपने पति की जगह गलती से किसी और के लिए झंडा लहरा रही थीं। वैसे ये सब बातें गंभीर हंस कर कहते हैं। उनके लिए नताशा का साथ ही काफी है वैसे नताशा को आज भी वानखेड़े के उस मैच को मिस करने का दुख है।

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN