शताब्दी समारोह में सम्मानित होंगे घुड़सवार

Jagran

Jagran

Author 2019-10-15 08:41:22

Jagran

img

आरा। बिहार अश्वारोही सैन्य बल के शताब्दी समारोह के अवसर पर मेडल जीतने वाले घुड़सवारों के अलावा सेवानिवृत्त हो चुके कर्मियों को सम्मानित किया जाएगा। इसके अलावा स्मारिका का भी विमोचन किया जाएगा। इसकी जानकारी एमएमपी के कमांडेंट सह भोजपुर एसपी सुशील कुमार ने दी। स्मारिका को अंतिम रूप दे दिया गया है। उन्होंने बताया कि शताब्दी समारोह 19 और 20 अक्टूबर को मनाया जाएगा। पहले दिन एमएमपी के लोगो का लोकार्पण भी होगा। डीजीपी खुद इसका लोकार्पण करेंगे। शाम में सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे। दो दिवसीय इस कार्यक्रम में पुरानी कलाकृति का भी प्रदर्शन होगा। मुम्बई से आए कलाकार घोड़े की आकृति का प्रतिमा बना रहे हैं। दिन-रात तैयारियां चल रही है। रमना मैदान में भव्य पंडाल बनाया जा रहा है। ऑफिस से लेकर पूरे एमएमपी ग्राउंड तक को आकर्षक लाइट से सजाने की तैयारी चल रही है। इस आयोजन पर करीब 74 लाख रुपये खर्च होंगे। एमएमपी ग्राउंड में जवानों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

------

खेलकूद से लेकर पेंटिग प्रतियोगिता भी होगी आयोजित

शताब्दी समारोह के दूसरे दिन खेलकूद के अलावा पेंटिग प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी। इस प्रतियोगिता में जिला पुलिस के अलावा अश्वारोही सैन्य बल के जवानों के बच्चे भाग लेंगे। इस दिन रक्तदान एवं स्वास्थ्य शिविर का भी आयोजन किया जाएगा। हार्ट व वेटेनरी पर सेमिनार भी आयोजित होगा। परेड से शुरुआत एवं सम्मान से समारोह का समापन होगा। इसे लेकर दिन-रात तैयारियां चल रही हैं। सोमवार को भी एमएमपी कमांडेंट ने तैयारियों का जायजा लिया। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अलग-अलग इकाई का गठन भी किया गया है।

-------

शताब्दी समारोह की डोकोमेन्ट्री भी बनाई जाएगी

कमांडेंट के अनुसार इस दो दिवसीय समारोह की डोकोमेन्ट्री भी बनाई जाएगी। इस समारोह में पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय, बीएमपी के डीजी एस.के. सिघल समेत मुख्यालय के सभी वरिष्ठ पदाधिकारी मौजूद रहेंगे। इसके अलावा एमएमपी में जो भी पदाधिकारी कार्यरत रहे हैं। उन्हें भी आमंत्रित किया जा रहा है। सेवानिवृत्त हो चुके कर्मियों को भी बुलाया जा रहा है।

--------

25 जगहों पर लगाए जा रहे फ्लैक्स

शताब्दी समारोह को सफल बनाने व प्रचार-प्रसार को लेकर करीब 25 जगहों पर फ्लैक्स, होर्डिंग व बैनर लगाए जाएंगे। एमएमपी कमांडेंट के अनुसार कोईलवर पुल, कोईलवर हनुमान मंदिर, आरा-पटना राजमार्ग, गीधा, धरहरा, आनंदनगर मोड़, बस स्टैंड, स्टेशन के बाहर, स्टेशन के अंदर, कतीरा चौक, जज कोठी मोड़, रमना मैदान मोड़, शिवगंज, पुलिस लाइन, चंदवा मोड़, कचहरी, हनुमान मंदिर मोड़, जीरो माइल, पुरानी पुलिस लाइन, गांगी, मठिया, पकड़ी चौक आदि जगहों पर फ्लैक्स, होर्डिंग व बैनर लगाने के आदेश दिए गए हैं।

-----

मुख्यमंत्री को भी बुलाने की चल रही तैयारी

दो दिवसीय शताब्दी समारोह में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी बुलाने की तैयारी चल रही है। इसके लिए कमेटी के संरक्षक समेत अध्यक्ष लगे हुए है। अफसरों का मानना हैं कि मुख्यमंत्री के आगमन से इस समारोह की रौनक और बढ़ जाएगी। आज से कल तक स्वीकृति मिलने की उम्मीद जतायी जा रही है। आगत अतिथियों के लिए अलग से व्यवस्था की जा रही है। जिससे की किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हो सके।

-----

19 अक्टूबर 1919 को सैन्य बल का हुआ था गठन

बिहार पुलिस के पास पहले अपना घुड़सवार बल उपलब्ध नहीं था। 1917 में भोजपुर जिले के पीरो क्षेत्र में फैले दंगा को नियंत्रित करने के लिए अश्वारोही सशस्त्र पुलिस बल की आवश्यकता महसूस की गई थी। तब एमपी एक्ट (ट)-1982 के अधीन 19 अक्टूबर 1919 को इसकी स्थापना की गई थी। उस समय इसका मुख्यालय आरा बनाया गया था। तब इसकी क्षमता 5 ट्रुप की थी। तब के शाहाबाद जिला के पुलिस अधीक्षक को उक्त अधिनियम के तहत बल का समादेष्टा नियुक्त किया गया था 1943 में इसकी क्षमता बढ़ाते हुए 7 ट्रुप बनाया गया था। झारखंड राज्य के गठन के बाद वर्तमान में आरा के अतिरिक्त पटना, सोनपुर व भागलपुर में अश्वारोही सशस्त्र बल का पुलिस ट्रुप रखा गया है।

----

Read Source

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN