शाकिब अल हसन की सट्टेबाज के साथ WhatsAPP चैट आई सामने

LiveHindustan

LiveHindustan

Author 2019-10-30 16:39:03

img

बांग्लादेश के ऑलराउंडर खिलाड़ी और कप्तान शाकिब अल हसन पर दो साल के प्रतिबंध की पुष्टि हो गई है। इसमें से एक साल निलंबन का होगा। आईसीसी ने दीपक अग्रवाल नामक एक भारतीय बुकी के साथ उनकी बातचीत की डिटेल जारी की है। शाकिब ने इसे स्वीकार कर लिया है। आईसीसी ने बताया है कि दीपक अग्रवाल ने सबसे पहले शाकिब से 2017 में संपर्क किया था। तब से वह लगातार शाकिब के संपर्क में था। आईसीसी द्वारा शाबिक पर प्रतिबंध से पहले इस डिटेल को सार्वजनिक किया गया है। 

नवंबर 2017: बुकी ने शाकिब को पहली बार संपर्क किया। उस समय शाकिब ढाका डायनामाइट्स टीम में थे। वह बांग्लादेश प्रमीयिर लीग खेल रहे थे। उन्होंने 4-12 नवंबर को मैच खेले। शाकिब यह जानते थे कि उन्हें अग्रवाल का नंबर किसी अन्य व्यक्ति ने मुहैया कराया है। अग्रवाल ने दूसरे व्यक्ति से बांग्लादेश प्रीमियर लीग के खिलाड़ियों के नंबर मांगे थे। नवंबर के मध्य में शाकिब और अग्रवाल के बीच वाट्सअप पर अनेक संदेशों का आदान प्रदान हुआ। अग्रवाल ने उनसे मिलने के लिए कहा। 

जनवरी 2018: शाकिब को बांग्लादेश, श्रीलंका और जिंबाब्वे की मौजूदगी वाली त्रिकोणीय सीरीज के लिए बांग्लादेश की टीम में चुना गया था। इस दौरान उनके और अग्रवाल के बीच व्हॉट्सएप पर बातें हुईं। वह अग्रवाल के साथ अनेक मैसेज में शामिल थे। कई व्हाट्सअप मैसेज और आईपीएल कनेक्शन की बात हुई।

19 जनवरी 2018: शाकिब को उस दिन के मैच में 'मैन ऑफ द मैच' बनने के लिए अग्रवाल ने बधाई देते हुए व्हॉटसएप मैसेज भेजा। अग्रवाल ने इसके बाद संदेश भेजा ''क्या हम इसमें काम कर सकते हैं या मैं आईपीएल तक इंतजार करूं। इस संदेश में काम करने का संदर्भ उसका अग्रवाल को आंतरिक सूचना उपलब्ध कराना था। उसने अग्रवाल के संपर्क की जानकारी एसीयू या किसी अन्य भ्रष्टाचार रोधी एजेंसी को नहीं दी।''

23 जनवरी 2018: शाकिब को अग्रवाल का एक और व्हॉट्सएप संदेश मिला, जिसमें अग्रवाल ने एक बार फिर उससे संपर्क करके अंदरुनी जानकारी पता करना चाही। इसमें अग्रवाल ने लिखा ''दोस्त इस सीरीज में कुछ हो सकता है?'' उन्होंने पुष्टि की कि अग्रवाल ने यह संदेश उसे मौजूदा त्रिकोणीय सीरीज के संबंध में अंदरुनी सूचना हासिल करने के आग्रह के साथ किया गया था। उन्होंने अग्रवाल के अंदरुनी सूचना हासिल करने के इस आग्रह की जानकारी एसीयू या किसी अन्य भ्रष्टाचार रोधी अधिकारी को नहीं दी।

26 अप्रैल 2018: वह किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ आईपीएल मैच में सनराइजर्स हैदराबाद टीम की ओर से खेला। उस दिन उसे अग्रवाल का एक और व्हॉट्सएप संदेश मिला जिसमें उस दिन निश्चित खिलाड़ी के खेलने के बारे में पूछा गया, इस तरह एक बार फिर अंदरुनी जानकारी मांगी गई। अग्रवाल ने बिटक्वाइन, डालर अकाउंट के बारे में बात करके इस चर्चा को जारी रखा और उनके डॉलर अकाउंट की जानकारी मांगी। इस बातचीत के दौरान उसने अग्रवाल से कहा कि वह पहले उससे मिलना चाहता है।

26 अप्रैल 2018: इन संदेशों में कई डिलीट किए गए संदेश भी शामिल हैं। शाकिब ने पुष्टि की कि अग्रवाल ने इस डिलीट किए गए संदेशों में अंदरुनी जानकारी देने का आग्रह किया था। उसने पुष्टि की कि अग्रवाल को लेकर उसकी चिंताएं थी, लगता था कि वह 'धोखेबाज है। इसके बाद हुई बातचीत में उसे महसूस हुआ कि वह सट्टेबाज था।

26 अप्रैल 2018: अग्रवाल के संपर्क करने की जानकारी उसने एसीयू या किसी अन्य भ्रष्टाचार रोधी अधिकारी को नहीं दी। शाकिब ने एसीयू को बताया कि अग्रवाल के किसी भी आग्रह को स्वीकार नहीं किया और ना ही कोई जानकारी दी, शाकिब ने कोई सूचना मुहैया नहीं कराई जिसके लिए आग्रह किया गया था और ना ही अग्रवाल से उसने कोई पैसा या अन्य कोई इनाम लिया। हालांकि इस दौरान उन्होंने कभी भी इस संपर्क के बारे में एसीयू या किसी अन्य संबंधित अधिकारी को कोई जानकारी नहीं दी।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

READ SOURCE

Experience triple speed

Never miss the exciting moment of the game

DOWNLOAD