संकट में ज़िम्बाबवे क्रिकेट, बोर्ड की मान्यता रद्द

Asiaville

Asiaville

Author 2019-09-17 15:47:28

img

आज ज़िम्बाबवे क्रिकेट बोर्ड को ज़िम्बाबवे खेल और मनोरंजन आयोग ने तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया है. बोर्ड में हो रहे भ्रष्टाचार की वजह से जिम्बाब्वे सरकार ने यह कदम उठाया है. इसके साथ ही जिम्बाब्वे क्रिकेट बोर्ड के कार्यवाहक प्रबंध निदेशक गेटमोर मकोनी को भी उनके पद से बर्खास्त कर दिया गया है.

ज़िम्बाबवे खेल आयोग ने जिम्बाब्वे क्रिकेट को यह निर्देश दिया था कि जब तक भ्रष्टाचार से जुड़े मामलों की जांच नहीं हो जाती तब तक बोर्ड किसी भी पद के लिए चुनाव नहीं कराएगा. लेकिन क्रिकेट बोर्ड ने इन निर्देशों की अनदेखी की और बैठक के बाद अध्यक्ष मकुहलानी को फिर चार साल के कार्यकाल के लिए चुना गया.

एसआरसी यानि ज़िम्बाबवे खेल और मनोरंजन आयोग ने कहा कि उसे संविधान के उल्लंघन और अन्य विवादों की कई शिकायतों के बाद कार्रवाई करने लिए मजबूर किया गया था. एसआरसी ने कहा, “यह राष्ट्र के हित में नहीं हो सकता है कि एक राष्ट्रीय खेल संघ खुद को इस तरीके से संचालित करता है, सुझाव देता है और इसके अधिकारी खुद के लिए क़ानून है.”

इससे पहले ज़िम्बाबवे के पूर्व क्रिकेट निदेशक इनोक इकोप को भ्रष्टाचार के मामलों में आरोपी पाया गया. इनोक इकोप को क्रिकेट से जुड़ी सभी तरह की गतिविधियों में भाग लेने से 10 साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है.

विश्वकप 2003 के बाद जब ज़िम्बाबवे क्रिकेट बोर्ड में हलचल शुरू हुई थी तो लगा था कि कुछ वक़्त बाद ये सब शांत हो जाएगा. लेकिन इसके बाद स्थिति ख़राब होती गई और इसका प्रभाव क्रिकेट पर भी पड़ा. जिम्बाब्वे ने लगातार 1975 से 2015 विश्वकप खेला लेकिन मौजूदा विश्वकप में वो क्वालीफाई नहीं कर सकी और उसकी जगह इस बार अफ़ग़ानिस्तान विश्वकप खेल रही है.

1998-2003 का दौर ज़िम्बाबवे क्रिकेट इतिहास का सबसे स्वर्णिम दौर था. लेकिन 2003 के बाद ज़िम्बाबवे ऐसे गिरी कि उठने में कई साल लग गए. टेस्ट टीम का दर्जा छिना, वनडे में कई नई टीम उससे ऊपर आ गईं. ज़िम्बाबवे ने क्रिकेट की दुनिया को कई बेहतरीन खिलाड़ी दिए हेनरी ओलोंगा, एंडी फ्लावर, गे ह्विटल, ग्रांट फ्लावर.

(हमें फ़ेसबुक, ट्वीटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो करें)

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN