सबसे ज़्यादा 300+ स्कोर 2015 में बने, इस बार टूट सकता है रिकॉर्ड

Asiaville

Asiaville

Author 2019-09-17 15:53:00

img

क्रिकेट में हाई स्कोरिंग मैच लगातार बढ़ते जा रहे हैं. इस विश्वकप में अब तक कई मुक़ाबले बारिश की भेंट चढ़ गए, फिर भी कई बार 300+ के स्कोर बन चुके हैं. लेकिन, आज भी 300+ स्कोर बनाना बेहद मुश्किल माना जाता है. विश्वकप जैसे बड़े मंचों पर तो ये काम और भी कठिन हो जाता है. आइए देखते हैं विश्वकप में अब तक 300+ स्कोर कितनी बार बने? किस विश्वकप में सबसे ज़्यादा बने और कौन सा स्कोर उस विश्वकप का सबसे बड़ा स्कोर साबित हुआ?

विश्वकप 1975

उस समय मैच 60 ओवर्स के हुआ करते थे. पहले विश्वकप के पहले ही मैच में इंग्लैंड ने 334 रनों का पहाड़ खड़ा कर दिया था. बाद में, ये उस विश्वकप का भी सर्वोच्च स्कोर साबित हुआ. मैच था भारत के ख़िलाफ़. ज़ाहिर है भारत ये स्कोर चेज़ नहीं कर पाया. भारत ने जवाब में 60 ओवर में 3 विकेट खोकर सिर्फ़ 132 रन बनाए और इंग्लैंड ने 202 रनों से ये मैच जीत लिया. ये वही मैच है जिसमें ओपनर सुनील गावस्कर ने 174 गेंदों में 36 रनों की नाबाद पारी खेली थी.

img

इसके बाद 1975 विश्वकप में तीन बार और 300+ रन बने और हर बार विपक्षी टीम इस स्कोर को चेज़ करने में नाकाम रही.

विश्वकप 1979

विश्वकप 1979 में एक भी स्कोर 300 या 300+ नहीं बना. इस विश्वकप का सर्वोच्च स्कोर बनाया चैंपियन वेस्टइंडीज़ ने सेमीफ़ाइनल में पाकिस्तान के ख़िलाफ़. कैरिबियाई टीम ने पाकिस्तान के ख़िलाफ़ 60 ओवरों में 6 विकेट खोकर 293 रन बनाए थे.

विश्वकप 1983

विश्वकप 1983 में चार बार 300+ स्कोर बने. इस विश्वकप के पहले ही मैच इंग्लैंड ने न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ 322 रनों का बड़ा स्कोर बनाया. न्यूज़ीलैंड इस स्कोर को चेज़ नहीं कर पाया और इंग्लैंड ने इस मुक़ाबले में 106 रन से जीत दर्ज़ की.

विश्वकप के दूसरे मुक़ाबले में भी 300+ स्कोर बना. पाकिस्तान ने श्रीलंका के ख़िलाफ़ 338 रनों का विशाल स्कोर बनाया और 50 रनों से जीत हासिल कर ली. यही इस विश्वकप का सर्वोच्च स्कोर साबित हुआ. इसके बाद एक मैच में इंग्लैंड ने और एक में ऑस्ट्रेलिया ने 300+ का स्कोर बनाया. चैंपियन टीम भारत एक बार भी 300 के स्कोर को छू नहीं सकी.

विश्वकप 1987

इस विश्वकप में पहली बार मुक़ाबला 60 ओवर के बदले 50 ओवर्स के हुए. ऐसे में 300+ का स्कोर सिर्फ़ एक बार ही बन पाया. वेस्ट इंडीज ने श्रीलंका के ख़िलाफ़ विश्वकप में अब तक का सबसे बड़ा स्कोर बनाया था. विव रिचर्ड्स की 181 रनों की विशाल पारी की बदौलत वेस्ट इंडीज ने श्रीलंका के सामने 360 रन का स्कोर खड़ा कर दिया.

चैंपियन ऑस्ट्रेलिया 300 रनों तक नहीं पहुंच पाई. उसका सर्वोच्च स्कोर रहा भारत के ख़िलाफ़ बनाया गया 270 रन, जिसमें रोमांचक तरीक़े से ऑस्ट्रेलिया को एक रन से जीत नसीब हुई थी.

विश्वकप 1992

1992 विश्वकप में दो बार 300+ के स्कोर बने और वो भी एक ही मैच में. इस बार विश्वकप के तीसरे मुक़ाबले में ज़िम्बाबवे ने श्रीलंका के ख़िलाफ़ 50 ओवर में 4 विकेट गंवाकर 312 रन का स्कोर खड़ा किया था. विश्वकप इतिहास में आज तक किसी टीम ने 300+ स्कोर का पीछा कर जीत हासिल नहीं कर पाई थी, लेकिन श्रीलंका ने इतिहास रच दिया. टीम ने 49.2 ओवर में 7 विकेट गंवाकर 313 रन बनाकर ये मुक़ाबला 3 विकेट से जीत लिया. चैंपियन पाकिस्तान एक बार भी 300 का आंकड़ा नहीं छू सका.

विश्वकप 1996

1996 विश्वकप में 300+ स्कोर पांच बार बने और पांचों बार कमज़ोर टीमों के ख़िलाफ़ ऐसा हुआ. विश्वकप के दूसरे ही मुक़ाबले में दक्षिण अफ़्रीका ने यूएई के ख़िलाफ़ 321 रनों का स्कोर खड़ा किया था. इसके बाद न्यूज़ीलैंड ने नीदरलैंड्स के ख़िलाफ़ 307 रन का स्कोर खड़ा किया था. ऑस्ट्रेलिया ने कीनिया के ख़िलाफ़ 304 रन का स्कोर बनाया. इस विश्वकप में चौथी बार 300+ स्कोर दोबारा दक्षिण अफ़्रीका के नाम रहा और उसने नीदरलैंड्स के ख़िलाफ़ 328 रन बनाए. वहीं 1996 विश्वकप की चैंपियन श्रीलंका ने इस विश्वकप में सबसे ज़्यादा रन कीनिया के ख़िलाफ़ 398 रन बनाया था.

विश्वकप 1999

1999 विश्वकप में तीन बार 300+ स्कोर बने जिसमें से भारत ने दो बार ये कारनामा किया. इस विश्वकप में भारत ने पहली बार कीनिया के ख़िलाफ़ 329 रनों का स्कोर बनाया इसके बाद भारत श्रीलंका के ख़िलाफ 373 रन बना दिए जो इस विश्वकप का सबसे बड़ा स्कोर भी साबित हुआ. ये वही मैच है जिसमें सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ ने विश्वकप में 318 रनों की ऐतिहासिक साझेदारी निभाई थी. वहीं, चैंपियन ऑस्ट्रेलिया ने भी ज़िम्बाबवे के ख़िलाफ़ 303 रन का स्कोर खड़ा किया.

img

विश्वकप 2003

2003 विश्वकप में पहली बार रिकॉर्ड 300+ के स्कोर बने. इस विश्वकप में 9 बार ऐसा हुआ. विश्वकप के दूसरे ही मैच में ज़िम्बाबवे ने नामीबिया के ख़िलाफ़ 340 रनों का स्कोर टांग दिया. इसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान के ख़िलाफ़ 310 रनों का स्कोर बनाया और 82 रन से ये मैच जीता. फिर, श्रीलंका ने न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ 306 रनों का स्कोर बनाया और डकवर्थ लुईस नियम से ये मुक़ाबला 9 विकेट से जीता.

इसके बाद भारत ने नामीबिया के ख़िलाफ 311 रन बनाकर मैच 181 रनों से जीत लिया. फिर ऑस्ट्रेलिया ने भी नामीबिया के ख़िलाफ़ 301 रन का स्कोर बनाया और नामीबिया की पूरी टीम को 14 ओवर में ही पवेलियन भेजकर मैच जीत लिया.

ज़िम्बाबवे ने नीदरलैंड्स के ख़िलाफ़ 301 रनों का स्कोर बनाया. फिर, नीदरलैंड्स ने भी नामीबिया के ख़िलाफ़ 314 रनों का स्कोर बनाया. इसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने इस विश्वकप में तीसरी बार 300+ का स्कोर श्रीलंका के ख़िलाफ़ बनाया. ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका के ख़िलाफ़ 319 रन बनाए. 2003 विश्वकप के फाइनल मुक़ाबले में भी ऑस्ट्रेलिया ने भारत के ख़िलाफ़ 359 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया जोकि उस विशवकप का भी सर्वोच्च स्कोर साबित हुई.

विश्वकप 2007

2007 का विश्वकप कमाल का था. इस बार रिकॉर्ड तोड़ 15 बार 300+ के स्कोर बने, इनमें एक बार तो 400+ का स्कोर भी शामिल है. इस विश्वकप में सबसे ज़्यादा पांच बार ऑस्ट्रेलिया ने 300+ स्कोर विपक्षी टीम के ख़िलाफ़ बनाया. पांचों बार ऑस्ट्रेलिया को जीत मिली. इसी विश्वकप में पहली बार भारत ने 400+ रन बरमूडा के ख़िलाफ़ बनाया. भारत ने बरमुडा के ख़िलाफ़ 413 का विशाल स्कोर खड़ा किया था.

img

2007 विश्वकप का ख़िताब एक बार फिर ऑस्ट्रेलिया ने अपने नाम किया. ऑस्ट्रेलिया ने फाइनल मुक़ाबले में श्रीलंका को डकवर्थ लुईस नियम से हराकर विश्वकप का चौथा ख़िताब अपने नाम किया था.

विश्वकप 2011

2011 विश्वकप में भी 16 बार 300+ के स्कोर बने. यही नहीं, इस विश्वकप में कमज़ोर मानी जाने वाली आयरलैंड की टीम ने दिग्गज इंग्लैंड के ख़िलाफ़ 328 रनों का लक्ष्य हासिल किया था, जो आज भी रिकॉर्ड है. इंग्लैंड ने पहली पारी में 327 बनाए और जवाब में आयरलैंड ने 329 ठोक डाले.

img

2011 विश्वकप में सबसे बड़ा स्कोर भारत ने बांग्लादेश के ख़िलाफ़ बनाया था. भारत विश्वकप के पहले ही मैच में बांग्लादेश के ख़िलाफ़ 370 रनों का स्कोर बना दिया. 2011 विश्वकप का ख़िताब भी भारत के नाम है. भारत ने फाइनल मुक़ाबले में श्रीलंका को शिकस्त देकर दूसरी बार विश्वकप अपने नाम किया था.

विश्वकप 2015

2015 विश्वकप शानदार था. इस विश्वकप में 28 बार 300+ स्कोर बने और 17 बार विपक्षी टीम 300+ स्कोर चेज़ करने में असफल रही. सिर्फ 3 बार 300+ स्कोर चेज़ हुआ और सबसे ख़ास बात ये कि इस विश्वकप में हर दूसरे या तीसरे मुक़ाबले में 300 से ज़्यादा रन बने. वहीं इस विश्वकप में तीन बार 400+ स्कोर भी बने जिनमें दो बार दक्षिण अफ़्रीका ने ये कारनामा किया और एक बार ऑस्ट्रेलिया ने.

अगर 300+ रन बनाने की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया, भारत और वेस्ट इंडीज ने तीन बार 300 से ज़्यादा स्कोर बनाया. ऑस्ट्रेलिया और भारत ने अपने तीनों मुक़ाबले में जीत दर्ज़ की लेकिन वेस्ट इंडीज को तीन में से एक बार 300 से ज़्यादा रन बनाने के बाद हार का सामना करना पड़ा.

इस विश्वकप में न्यूज़ीलैंड, दक्षिण अफ़्रीका, श्रीलंका और इंग्लैंड ने दो-दो बार 300 से ज़्यादा रन बनाए. जिसमें न्यूज़ीलैंड, दक्षिण अफ़्रीका और श्रीलंका के 300 से ज़्यादा रन वाले स्कोर को विपक्षी टीम चेज़ नहीं सकी. वहीं वेस्ट इंडीज के बनाए 300 से ज़्यादा रन को एक बार विपक्षी टीम चेज़ कर सकी और एक बार नहीं. वहीं पाकिस्तान ने सिर्फ एक बार 300+ स्कोर बनाया और वो मुक़ाबला जीता भी. इस टूर्नामेंट का सर्वोच्च स्कोर था 417 रन, जो ऑस्ट्रेलिया ने अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ़ बनाया था.

विश्वकप 2019

2019 विश्वकप अभी चल ही रहा है. भारत-पाकिस्तान के मुक़ाबले तक टूर्नामेंट में कुल 22 मैच हुए हैं, जिनमें से तीन तो बारिश की वजह से धुल ही गए हैं. अब तक 11 बार 300+ स्कोर बन चुके हैं. ऐसे में बहुत मुमकिन है कि इस बार 2015 का भी रिकॉर्ड टूट जाए. हालांकि अभी तक एक भी बार सामने वाली टीम पहले से दिए गए 300+ स्कोर को सफ़लतापूर्वक चेज़ नहीं कर पाई है.

img

इस बार विश्वकप की प्रबल दावेदार इंग्लैंड ने तीन बार 300+ रन बनाया है. एक बार दक्षिण अफ़्रीका और एक बार बांग्लादेश के ख़िलाफ़ और एक बार चेज़ करते हुए पाकिस्तान के ख़िलाफ़ बनाया है. वहीं ऑस्ट्रेलिया ने भी तीन बार पाकिस्तान और श्रीलंका के ख़िलाफ़ 300+ स्कोर बनाया है और एक बार भारत के ख़िलाफ़ चेज़ करते हुए बनाए. वहीं भारत ने भी दो बार 300+ स्कोर बनाया है एक बार पाकिस्तान और एक बार ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़. वहीं बांग्लादेश और पाकिस्तान ने एक-एक बार 300 से ज़्यादा स्कोर बनाया है. बांग्लादेश ने दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ और पाकिस्तान ने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ बनाया था. दक्षिण अफ़्रीका ने भी एक बार 300+ रन बनाया बांग्लादेश के ख़िलाफ़ चेज़ करते हुए.

इस विश्वकप में अभी तक का सबसे बड़ा स्कोर इंग्लैंड ने बांग्लादेश के ख़िलाफ़ 386 रनों का खड़ा किया. अभी विश्वकप में 26 मैच होने बाकी हैं,ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि क्या इस विश्वकप में पिछले विश्वकप का रिकॉर्ड टूटता है और एक नया रिकॉर्ड बनता है?

(हमें फ़ेसबुक, ट्वीटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो करें)

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN