सरकारी खेल में हार गया स्टेडियम

Amar Ujala

Amar Ujala

Author 2019-09-17 04:36:05

img

दौराला। विश्वभर में क्रिकेट और फुटबाल जैसे खेल आज लोगों के दिलों में जगह बनाए हुए हैं। आज हर युवा देश के लिए क्रिकेट खेलने का सपना देखता है। देहात के युवा अपने इस सपने एवं प्रतिभा को दबाने पर मजबूर हैं। दरअसल सरकार की ओर से दौराला ब्लॉक के शाहपुर जदीद गांव में 15 साल पहले बनाया गया स्टेडियम देखरेख के अभाव में बदहाल हौ।
2004 में बना था स्टेडियम
जिला युवा कल्याण एवं प्रादेशिक विकास दल के तत्कालीन अधिकारी भूपाल सिंह की देखरेख में शाहपुर जदीद गांव में 2004 में लाखों की लागत से स्टेडियम का निर्माण कराया गया था। इसका मकसद युवाओं को खेलों को लेकर जागरूक करना एवं उनको ट्रेनिंग देना था।
18 बीघा जमीन पर बना स्टेडियम
इस स्टेडियम को बनाने के लिए सरकार को जमीन नहीं मिल रही थी। ऐसे में जनता इंटर कॉलेज के प्रबंधक रामपाल सिंह ने कॉलेज की 18 बीघा जमीन विभाग को दी थी। उन्होंने यह सोचकर जमीन दी कि स्कूल के बच्चे व क्षेत्रीय स्तर पर यहां विभिन्न प्रतियोगिता होने से बच्चे प्रतिभा को दिखा सकेंगे। इस स्टेडियम का निर्माण पूरा होने के बाद पूर्व विधायक रविंद्र पुंडीर ने शिलान्यास किया था। यह देखरेख नहीं होने से बदहाली पर आंसू बहा रहा है।
प्राइवेट एकेडमी का बोलबाला
स्टेडियम की देखरेख नहीं होने से क्षेत्र में प्राइवेट एकेडमी की भरमार है। इनमें क्रिकेट, हॉकी, फुटबाल आदि का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इन एकेडमी की फीस महंगी है, लेकिन यहां देहात क्षेत्र से आने वाले कई खिलाड़ी राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देश का नाम रोशन कर चुके हैं। स्टेडियम में यदि प्रशिक्षण मिलता तो आज यहां से निकलने वाले खिलाड़ी भी देश का नाम रोशन करते।

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN