सिटी की महिला क्रिकेटर का जलवा वेस्ट इंडीज दौरे पर चुनी गई

Amar Ujala

Amar Ujala

Author 2019-09-28 03:57:10

चंडीगढ़। सिटी की महिला क्रिकेटर तान्या भाटिया और हरलीन देओल का चयन वेस्ट इंडीज के खिलाफ भारतीय महिला क्रिकेट टीम में हुआ है। वेस्ट इंडीज दौरे पर भारतीय महिला टीम को तीन वनडे और पांच टी-20 मैचाें की सीरीज खेलनी है। भारतीय टीम 1 से 20 नवंबर तक वेस्ट इंडीज के दौरे पर रहेगी। शुक्रवार को सूरत में बीसीसीआई में मीटिंग में दोनों के नाम का चयन किया गया।
एमसीएम डीएवी कॉलेज 36 की छात्रा और विकेट कीपर तान्या भाटिया वनडे और टी-20 सीरीज दोनों में खेलेंगी। वहीं लेग स्पिनर हरलीन देओल का चयन टी-20 टीम के लिए हुआ है। हरलीन देओल तीसरी बार भारतीय महिला टीम में चुनी गई हैं। इस खिलाड़ी ने इसी साल इंग्लैंड के खिलाफ अपना डेब्यू मैच खेला था।
अपने चयन पर खुशी जताते हुए हरलीन देओल ने कहा कि टीम में ओपनर खेलती हैं। इसके साथ ही वह लेग स्पिनर गेंदबाजी भी करती हैं। हरलीन ने कहा कि उन्हें इस सीरीज में बेहतर करके दिखाना है, ताकि आगे चलकर भारतीय महिला टीम का लगातार हिस्सा बन सकें। हरलीन देओल चंडीगढ़ एमसीएम डीएवी कॉलेज की छात्रा हैं। वहीं, तान्या भाटिया इस सीरीज में बतौर विकेट कीपर अपने आप को सिद्ध करना चाहती है कि वह देश की सबसे बेहतर महिला क्रिकेर्ट्स में से एक हैं।
बॉक्स
मां-पिता का सपना साकार करने में जुटी
तान्या भाटिया की मां सपना भाटिया ने बताया कि मौजूदा समय में उनकी बेटी साउथ अफ्रीका के खिलाफ सूरत में वनडे और टी-20 सीरीज खेल रही हैं। बेटी ने उन्हें फोन पर वेस्ट इंडीज दौर पर चुने जाने की बात बताई है और दौरे के लिए अपना पासपोर्ट भी मंगवाया है। सपना भाटिया ने कहा कि तान्या शुरू से ही क्रिकेट को लेकर गंभीर रही है। रोज अभ्यास करना कभी नहीं छोड़ती। परिवार का सपना था कि तान्या एक दिन भारतीय टीम में अपनी जगह बनाए। इस पर वह पूरी तरह से खरी उतर रही है। सपना भाटिया ने बताया कि तानिया पढ़ाई में भी अव्वल रहती है।
पिता से ली विकेटकीपर बनने की प्रेरणा
तान्या भाटिया के पिता संजय भाटिया कॉलेज और स्कूल टीम से क्रिकेट से खेलते हुए विकेट कीपिंग किया करते थे। पिता ने अपनी बेटी को भी विकेट कीपर बनाने की ठान ली। तान्या ने विकेट कीपर बनने की शुरुआत अपने पिता से ली। इसके साथ ही बल्लेबाजी में भी बेहतर करने लगी। सात साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया। डीएवी स्कूल-8 में युवराज सिंह के पिता योगराज और कोच सुखविंदर बाबा से पांच साल क्रिकेट के गुर सीखे। मौजूदा समय में सेक्टर 36 स्थित जीएनपीएस अकादमी में कोच आरपी सिंह और जसवंत राय से कोचिंग ले रही हैं।

READ SOURCE

⚡️Fastest Live Score

Never miss any exciting cricket moment

OPEN